मैनपुरी, बेवर : सर्वस्व न्योछावर कर भारत मां को गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराने वाले शहीदों की पुण्य स्मृति में लगने वाला शहीद मेले का शुभारंभ नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती 23 जनवरी से होगा।

बेवर नगर स्वाधीनता संग्राम आंदोलन में पड़ोसी जनपदों का केंद्र बिंदु बना रहा। यहां नगर की पुरानी गल्ला मंडी में 1939 में नेताजी ने विशाल जनसभा का अध्यक्ष पं. हीरालाल दीक्षित को बनाया था। बेवर के सपूत बलिदान देने की गौरवशाली परंपराओं को जीवंत बनाए रखने को स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पूर्व विधायक स्व.जगदीश नारायन त्रिपाठी ने थाने के सामने जहां शहीद जमुना प्रसाद त्रिपाठी सीताराम गुप्त तथा कृष्ण कुमार विद्यार्थी ने जीवन बलिदान कर इतिहास के पन्नों में स्वर्णाक्षरों में नाम लिखवाया। भव्य शहीद स्मारक की स्थापना 15 अगस्त 1948 को कराई गई। यहां एक विशाल पुस्तकालय का निर्माण भी कराया गया, जिसके लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी 50 हजार की आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई थी।

1994 में शहीद स्मारक समिति द्वारा राज्य सरकार के अनुदान से शहीद मन्दिर का निर्माण हुआ और इस मंदिर के गर्भ में नगर के तीनों अमर शहीदों की कांस्य प्रतिमाएं जनपद के अन्य शहीदों की प्रतिमाओं के साथ स्थापना कराई गई। 18 दिसंबर 2011 को शहादत की अलख जगाने वाले वीर योद्धा जगदीश नारायण त्रिपाठी भी भारत मां की गोद में हमेशा के लिए सो गए। उन्हीं की मशाल को थाम कर मेला प्रबंधक राज त्रिपाठी ने पूरे जोश और आत्मविश्वास के साथ कदम बढ़ाया और मेले को भव्य आकर्षक आकार दिया। मेले का शुभारंभ 23 जनवरी को नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया जाएगा।

लोक निर्माण मंत्री करेंगे उद्घाटन

प्रदेश सरकार के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल सिंह यादव 23 जनवरी को प्रात: 11 बजे हेलीकॉप्टर से मेला प्रांगण में आकर नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर शहीद मंदिर में श्रद्धासुमन अर्पित कर शहीद मेले में बने शहीद स्तंभ पर पुष्प अर्पित कर प्रदर्शनी का उद्घाटन कर जनसभा को भी संबोधित करेंगे। यह जानकारी मेला प्रबंधक राज त्रिपाठी ने दी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप