महराजगंज: विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर नगर एक मैरेज हाल में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि राज्य महिला आयोग की सदस्य अर्चना चंद्रा ने कहा कि पेड़ पौधे मानव जाति के अस्तित्व के लिए आवश्यक हैं और पृथ्वी पर आक्सीजन के सबसे बड़े स्रोतों में से एक है। सभी पेड़ पौधे प्रकाश संश्लेषण के दौरान कार्बन डाइआक्साइड का उपयोग करते हैं और आक्सीजन छोड़ते हैं। आक्सीजन की कमी को दूर करने और पर्यावरण संतुलन बनाए रखने के लिए पेड़-पौधे अवश्य लगाएं।

सृष्टि सेवा संस्थान के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कृषि उपनिदेशक राजेश कुमार ने बताया कि किसानों की आय का दोगुना करने का प्रयास विभिन्न कृषिगत योजना से सरकार कर रही है। कृषि से संबंधित योजना का लाभ पाने के लिए किसानों को सबसे पहले कृषि विभाग की साइट पर पंजीकरण करना होगा।

जिला प्रोबेशन अधिकारी डीसी त्रिपाठी ने कहा कि वर्तमान में महिलाएं हर क्षेत्र में अपना कीर्तिमान स्थापित कर रहीं है। डा. शांतिशरण मिश्र ने कहा कि रासायनिक खादों के प्रयोग को कम करते हुए हम जैविक खेती की तरफ बढ़ें तो पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बेहतर योगदान होगा। कार्यक्रम का संचालन संस्थान सचिव सुनील कुमार पांडेय ने किया। इस दौरान बाल संरक्षण अधिकारी जकी अहमद, महिला थानाध्यक्ष कंचन राय, चाइल्ड फंड इंडिया के संतोष कुमार, विजया पाठक, रीता शर्मा, मृणालिनी तिवारी, आरती गौड़, रेनू आर्या, संजा देवी, अजय तिवारी, अरविद कुमार, विजय, रामहरी, अखिलेश, अमित मिश्र, आदि उपस्थित रहे। बच्चों की तरह पेड़-पौधों की करें देखभाल

महराजगंज: सदर विकास खंड के ग्राम पंचायत भिसवा के उपनगर शिकारपुर चौराहे पर पूर्व प्रधान नूर आलम व गोविद प्रजापति ने पौधारोपण किया। पूर्व प्रधान ने कहा कि इस वैश्विक महामारी में जिस तरह से आक्सीजन की कमी हुई है, उसके जिम्मेदार हम स्वयं हैं। सभी को पौधारोपण करना चाहिए। साथ ही जिस तरह से हम बच्चों का पालन पोषण करते हैं। ठीक उसी प्रकार से पौधों की भी देखभाल बेहद जरूरी है, इसलिए प्रत्येक इंसान को अपने जीवन में कम से कम एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए। गोविद प्रजापति ने कहा कि पेड़ पौधे धरती के श्रृंगार हैं। इसी से हमें जीवनदायिनी आक्सीजन मिलता है। कृष्ण पाल प्रजापति, आशीष प्रजापति, सुन्नर प्रसाद, सोनू, गुड्डू पटेल, रिकू मोदनवाल, संदीप मोदनवाल, जोगिदर मद्धेशिया, अशोक पटेल, दारोगा पटेल, मनोज मोदनवाल आदि लोग मौजूद रहे।

Edited By: Jagran