लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश के किसानों को अब बीज पर विशेष अनुदान मिलेगा। सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक में इस पर मुहर लग गई है। सूबे के किसानों को धान पर 250 व गेहूं के बीज पर 400 रुपये प्रति क्विंटल विशेष अनुदान दिया जाएगा। ये सौगात इसी वित्तीय वर्ष से लागू हो रही है, जो आगे भी प्रभावी रहेगी। इस पहल से किसान केंद्रीय योजनाओं के बराबर अनुदान पा सकेंगे।

बीज ग्राम योजना के तहत गेहूं व धान के बीज पर अन्य केंद्रीय योजनाओं के बराबर अनुदान नहीं मिल रहा था। इसीलिए विशेष अनुदान की नई व्यवस्था शुरू की जा रही है। ज्ञात हो कि केंद्र सरकार की योजनाओं जैसे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, पूर्वी भारत में हरित क्रांति के विस्तार की योजना, एकीकृत धान्य विकास कार्यक्रम के तहत धान व गेहूं बीज वितरण पर कृषकों को मूल्य का 50 प्रतिशत व अधिकतम दो हजार रुपये प्रति क्विंटल जो भी कम हो, अनुदान अनुमन्य है।

उत्तर प्रदेश में बीज ग्राम योजना के तहत धान व गेहूं के बीजों के वितरण पर मूल्य का 50 प्रतिशत व अधिकतम 1,750 रुपये प्रति क्विंटल धान पर व 1,600 रुपये प्रति क्विंटल गेहूं पर अनुदान दिया जाता रहा है, जो अन्य केंद्रीय योजनाओं की तुलना में कम रहा है। इससे किसान इस योजना की ओर कम आकर्षित होते थे और केंद्र सरकार की ओर से आवंटित धनराशि का शत-प्रतिशत सदुपयोग नहीं हो पाता था। योगी सरकार ने अब विशेष अनुदान की व्यवस्था की है। इसका उद्देश्य कृषकों के माध्यम से उन्नतिशील प्रजातियों के बीजों का उत्पादन करके उन्हें प्रोत्साहित करना, उत्पादन व उत्पादकता में वृद्धि करना और अनुदान पर विभिन्न फसलों के उन्नतशील प्रजातियों के बीज अधिकाधिक किसानों को उपलब्ध कराना है।

बीज ग्राम योजना के तहत अब गेहूं व धान के बीज मूल्य पर अन्य केंद्रीय योजनाओं के बराबर अनुदान की धनराशि दो हजार रुपये प्रति क्विंटल रहेगी। चालू वित्तीय वर्ष 2021-22 से प्रदेश में जायद, खरीफ व रबी मौसम की विभिन्न फसलों के बीजों पर बीज ग्राम योजना के तहत बीज उत्पादन कार्य मद में अनुदान दिया जाएगा।

Edited By: Umesh Tiwari