लखनऊ (जेएनएन)। एससी-एसटी एक्ट के विरोध में भारत बंद के दौरान सवर्ण संगठनों ने अपनी सक्रियता दिखाने के बाद आंदोलन को और धार देने की तैयारी की है। सोशल मीडिया पर इन संगठनों ने केंद्र सरकार के खिलाफ महिम छेड़ रखी है, साथ ही ओबीसी को अपने साथ जोडऩे का प्रयास किया जा रहा है। इधर सर्वजन हिताय संरक्षण समिति ने 28 सितंबर को होने वाले सम्मेलन के लिए सभी संगठनों से संपर्क करना शुरू कर दिया है।

छह सितंबर को भारत बंद के दौरान प्रदेश के कई जिलों में सवर्णों ने सड़क पर उतरकर अपनी ताकत का अहसास कराया है। अब ब्राह्मण और क्षत्रिय संगठनों के प्रभावी नेताओं ने अन्य संगठनों को लामबंद करना शुरू कर दिया है। अखिल भारतीय सवर्ण एकता मंच/ओबीसी समाज के बैनर के जरिये सोशल मीडिया पर एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ आवाज उठाने की अपील शुरू की गई है। इसके साथ ही कई संगठनों ने मोबाइल पर मिस्ड काल का अभियान भी छेड़ रखा है।

इन संगठनों को विभिन्न दलों के कई सवर्ण विधायक भी परदे के पीछे से समर्थन देने में जुटे हुए हैं। आने वाले दिनों में कुछ विधायक खुलकर आंदोलन के साथ आ सकते हैं। पदोन्नतियों में आरक्षण का विरोध कर रही सर्वजन हिताय संरक्षण समिति ने एससी/एसटी एक्ट के विरोध में जागरूकता अभियान छेड़ा है। समिति 28 अक्टूबर को प्रदेश व्यापी सम्मेलन करने जा रही है। इसके बाद आंदोलन को और गति मिलने के आसार हैं।

 

Posted By: Ashish Mishra