Move to Jagran APP

UP Weather: यूपी में गर्मी का प्रचंड कहर, अब तक 119 लोगों की मौत; मौसम विभाग ने मानसून पर दिया ताजा अपडेट

UP Weather News मौसम विभाग ने भी कई जिलों में 20 जून तक लू का रेड अलर्ट जारी किया है। सोमवार को प्रयागराज फिर प्रदेश में सबसे गर्म रहा जहां अधिकतम तापमान 47.6 डिग्री सेल्सियस रहा है। इसके अलावा झांसी सुलतानपुर हमीरपुर फतेहपुर में भी पारा 47 डिग्री के पार रहा है। बीते 24 घंटों में प्रचंड गर्मी से 119 लोगों की मौत हो गई।

By Jagran News Edited By: Abhishek Saxena Tue, 18 Jun 2024 07:26 AM (IST)
UP Weather: यूपी में मानसून का इंतजार हो रहा है।

जागरण टीम, लखनऊ : भीषण लू का मौसम कानपुर समेत पूरे गंगा-यमुना के मैदान को झुलसा रहा है। इसके साथ ही सोमवार को पश्चिम से पूरब की ओर बह रही पछुआ हवा की औसत गति भी रविवार के मुकाबले 7.1 किमी से बढ़कर सोमवार को 9.1 किमी प्रति घंटा हो गई। इससे पछुआ के कमजोर होने से पुरवा हवा चलने की जो उम्मीद थी, वह भी टूट गई है। अब अगले तीन दिन तक मौसम में नरमी के आसार नहीं हैं।

वाराणसी में हीट स्ट्रोक के कारण सोमवार देर रात तक 32 लोग की मौत हो गई। हालांकि चिकित्सक मौत के अलग-अलग कारण बता रहे हैं। उनका कहना है कि शारीरिक रूप से कमजोर व अस्वस्थ लोगों को मौसम ज्यादा प्रभावित कर रहा है। लू या तपिश से मौत की पुष्टि पोस्टमार्टम से ही हो सकती है।

16 मौतें कानपुर में हुईं। तीन शव तो स्टेशन में मिले। फतेहपुर में पिता-पुत्र समेत आठ लोगों की मौत हो गई। 27 वर्षीय अंशू दुबे बुखार आने के बाद बेहोश हो गए। कुछ देर में उनकी मौत हो गई। 62 वर्षीय पिता इकलौते बेटे के शव का अंतिम संस्कार लौटे तो लू लगने से उनकी भी मौत हो गई। व

हीं, हमीरपुर में 15, चित्रकूट में 12 तो बांदा में 10 लोगों ने दम तोड़ दिया। उन्नाव, कन्नौज में तीन-तीन, औरैया-महोबा में दो-दो, कानपुर देहात और इटावा में एक-एक की मौत हो गई। चंदौली में पांच, गाजीपुर में चार व मीरजापुर में पांच लोगों की मौत हो गई। 

बढ़ा मानसून का इंतजार

पश्चिम बंगाल और बिहार के पूर्वी हिस्से में ठहरे मानसून का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। शनिवार को 10.1 किमी की औसत गति से चल रही पछुआ की रफ्तार जब रविवार को कम हुई तो मौसम विज्ञानियों को मानसून के यूपी की ओर खिसकने की उम्मीद सोमवार को नाउम्मीदी में बदल गई। सोमवार को कई जिलों में अधिकतम तापमान सामान्य से चार से नौ डिग्री तक ऊपर चला गया।

ये भी पढ़ेंः UP News: लोकसभा चुनाव की जीत में डिंपल यादव ने बनाया एक और रिकॉर्ड; पति सहित पूरी पार्टी से आगे निकलीं सपा सांसद

मौसम विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि इसकी वजह है कि हर साल 17 जून के आसपास मानसून का असर दिखने लगता था और तापमान नियंत्रित रहता था। इस साल भीषण गर्मी की स्थिति अभी कम से कम तीन दिन बनी रहेगी।

ये भी पढ़ेंः एटा पुलिस ने रात भर थाने में भूखा रखा गवाह; सुबह हो गई मौत, एसएसपी ने निलंबित किए इंस्पेक्टर और मुंशी

20 के बाद ही राहत के आसार

मौसम विज्ञानी के अनुसार, 20 जून से तापमान की तीव्रता में धीरे-धीरे गिरावट शुरू होने के आसार हैं। जब तक पछुआ हवा का वेग तेज बना रहेगा तब तक मानसून अपनी तेजी से नहीं पहुंचेगा। इसका दूसरा तरीका है कि बंगाल की खाड़ी से तूफानी हवा शुरू हो जो कम से कम 15 से 20 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से यूपी में पहुंचे। तभी पछुआ हवा के साथ पहुंच रही गर्म हवा का प्रकोप कम होगा और मानसून के बादल आएंगे।