लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में पहले चरण के मतदान से पहले तमाम उठापटक और अटकलों के बीच में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने छोटी बहू अपर्णा यादव को कड़ी नसीहत के साथ सलाह भी दी है। इंटरनेट मीडिया पर अपर्णा यादव के भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की खबरों के बीच में ही शिवपाल सिंह यादव ने उनको फिलहाल समाजवादी पार्टी के लिए काम करने की सलाह दी है।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल सिंह यादव ने सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव के भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की अटकलों पर मोर्चा संभाल लिया है। शिवपाल सिंह यादव ने अपर्णा यादव को फिलहाल तो समाजवादी पार्टी में ही रहने की सलाह दी है। शिवपाल सिंह यादव ने अपर्णा यादव को नसीहत देते हुए कहा कि पहले अपर्णा यादव समाजवादी पार्टी के लिए काम करें। काम करने के बाद फिर कोई उम्मीद करें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अपर्णा यादव को अभी समाजवादी पार्टी में ही रहना चाहिए। इससे पहले समाजवादी पार्टी उनको लखनऊ कैंट से चुनाव भी लड़ा चुकी है। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने उनके लिए प्रचार भी किया था। कम से कम इन सब बातों को तो उनको ध्यान में रखना ही चाहिए।

समाजवादी पार्टी के सिंबल पर शिवपाल लड़ेंगे

शिवपाल सिंह यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया को निर्वाचन आयोग ने स्टूल चुनाव चिह्न आवंटित किया है। इसके बाद भी वह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के चुनाव चिह्न साइकिल पर ही सवार होकर मैदान में उतरेंगे। उन्होंने कहा है कि वह सिर्फ साइकिल चुनाव चिन्ह पर कैंडिडेट उतारेंगे। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि अपने तथा अन्य के टिकट का फैसला अखिलेश यादव पर छोड़ दिया गया है।

भाजपा पर साधा निशाना

शिवपाल सिंह यादव ने प्रचार को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर अपना निशाना साधा है। शिवपाल यादव ने कहा कि भाजपा को पहले से ही जानकारी थी कि इस चुनाव में सब कुछ वर्चुअल होने वाला। इस चुनाव में सब कुछ वर्चुअल तरीके से करने का निर्णय उन्हीं के कहने पर लिया गया है।

वाराणसी में कांग्रेस को एक और बड़ा झटका

वाराणसी में कांग्रेस के समर्थक सबसे बड़े परिवार के पार्टी को छोड़ देने के बाद अब अन्य नेताओं का पार्टी से मोहभंग हो रहा है। पंडित कमलापति त्रिपाठी के परिवार के कांग्रेस को छोड़ देने के बाद अब अनिल उपाध्याय ने भी कांग्रेस को छोड़ दिया है। अनिल उपाध्याय अब साइकिल पर सवार हो गए हैं। उन्होंने समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में सपा की सदस्यता ले ली है।

Edited By: Dharmendra Pandey