रायबरेली, जेएनएन। मिल एरिया थाना क्षेत्र के देवानंदपुर में संचालित गांधी सेवा निकेतन में सोमवार को छात्रों ने बाल कल्याण अधिकारी (शिक्षिका) की पिटाई कर दी। शिकायत पर जिला बाल संरक्षण अधिकारी जांच करने पहुंचे और बच्चों के बयान दर्ज किए। पीड़िता ने संस्था के प्रबंधक पर साजिशन छात्रों से हमला कराने का आरोप लगाया है।

उक्त संस्थान में सोमवार की सुबह बाल कल्याण अधिकारी ममता दुबे बच्चों को पढ़ा रही थीं। इसी दौरान किसी बात को लेकर बच्चे भड़क गए और उनके साथ हाथापाई करने लगे। एक बच्चे ने तो उन पर कुर्सी दे मारी। वह किसी तरह कक्षा से बचकर बाहर निकली। सूचना मिलने पर संस्था के प्रबंधक अरुण कुमार मिश्र और जिला प्रोबेशन विभाग से बाल संरक्षण अधिकारी वीरेंद्र पाल वहां आ गए। बच्चों ने आरोप लगाया कि ममता दुबे उन्हें अनाथ कहकर बुलाती हैं। पढऩे और खेलने कूदने में रोकटोक करती हैं। इसी वजह से उन्होंने मारपीट की।

उधर, पीड़िता का कहना है कि प्रबंधक से उनका विवाद चल रहा है। उन्हें बिना वजह नौकरी से निकाल दिया गया था, जिसकी शिकायत उन्होंने डीएम नेहा शर्मा से की थी। जिसके बाद उन्हें फिर रख लिया गया मगर, प्रबंधक उन्हें प्रताड़ित कर रहे थे। जब डीएम का तबादला हो गया तो साजिशन बच्चों को भड़काकर उन पर हमला कराया गया। उन्होंने मामले की शिकायत सिटी मजिस्ट्रेट से की है। वहीं प्रबंधक ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

इनकी भी सुनें

कार्यवाहक जिला प्रोबेशन अधिकारी सुनीता चौरसिया ने बताया कि गांधी सेवा निकेतन की शिक्षिका ममता दुबे और प्रबंधक के बीच मनमुटाव है। इसी मामले ने तूल पकड़ा है। बच्चों के द्वारा शिक्षिका से मारपीट की जानकारी हुई है। जांच कराई जा रही है। जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी जाएगी। इसके बाद आदेशानुसार कार्रवाई होगी। 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप