सीतापुर, जेएनएन।  बच्चों को मध्याह्न भोजन में हल्दी के घोल में कच्चे चावल परोसा गया। शनिवार दोपहर इस मामले का वीडियो वायरल होने के बाद अफसर हरकत में आ गए। यही नहीं, मुख्यमंत्री ऑफिस से रिपोर्ट तलब होने के बाद एडीएम विनय कुमार पाठक को भी गांव में जांच के लिए भेजा गया।

यह है मामला 

दरअसल, बिचपरिया स्कूल में कुल 104 बच्चे हैं इनमें 54 उपस्थित थे। शनिवार की दोपहर इस स्कूल के बच्चों की थाली में पीला घोल (जिसे हल्दी का घोल बताया जा रहा है।) और चावल के दानों का एक वीडियो वायरल हुआ। इसके बारे में कहा गया कि बच्चों को हल्दी के घोल में कच्चे चावल परोस दिए गए। वीडियो वायरल होने के बाद बीएसए को जांच के लिए निर्देशित किया गया। स्कूल बंद होने के बावजूद बीएसए अजय कुमार मौके पर गए और बच्चों व अभिभावकों के बयान लिए। बीएसए अजय कुमार ने बताया कि शनिवार को मध्याह्न भोजन का मेन्यू सब्जी-चावल था। स्कूल में आलू और सोयाबीन की रसेदार सब्जी व चावल बना था। 

बीएसए का कहना है कि छात्रा प्रियांशी व रागिनी और अभिभावक नीलकंठ सहित कई लोगों ने भोजन अच्छा होने की बात कही है। उन्होंने बताया कि भोजन का आखिरी हिस्सा रसा व चावल शेष था, जिसका किसी ने वीडियो बना लिया। देर शाम तक इस मामले की जांच जारी है। सूत्रों के मुताबिक इस मामले में सीएम दफ्तर ने आठ बजे तक रिपोर्ट देने के लिए निर्देशित किया है।

 इससे पहले भी मिर्जापुर में मिड डे मील में नमक और रोटी परोसने का मामला आ चुका है। इसी तरह बलिया में भी मिड डे मील में खराबी को लेकर मामला उछला था।

बच्‍चों के लिए बयान 

बीएसए जय कुमार शनिवार शाम पिसावां ब्लाक के बिचपरिया प्राथमिक विद्यालय पहुंचे। उन्‍होंने बच्चों को हल्दी में घुले कच्चे चावल देने के मामले बच्‍चों को बुलाकर एक-एक करके उनके बयान लिए। 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस