Move to Jagran APP

लखनऊ में भूख हड़ताल पर बैठे प्रधानमंत्री के भाई प्रहलाद मोदी, अमौसी एयरपोर्ट पर दो घंटे रही अफरा-तफरी

पीएम मोदी के भाई प्रहलाद मोदी बुधवार शाम लखनऊ अमौसी एयरपोर्ट पर में धरने पर बैठ गए। प्रह्लाद मोदी स्वागत करने के लिए पहुंचे कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी की सूचना मि‍ली थी कार्यकर्ताओ से फोन पर बात करने के बाद अनशन समाप्त कर सुलतानपुर के लिए रवाना हो गए।

By Anurag GuptaEdited By: Published: Wed, 03 Feb 2021 04:52 PM (IST)Updated: Wed, 03 Feb 2021 07:43 PM (IST)
योग सोशल सोसाइटी के कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे सुलतानपुर

लखनऊ, जेएनएन।  प्रशासन के लिए उस समय असहज स्थिति उत्पन्न हो गई, जब बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी के भाई प्रहलाद मोदी चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर धरने पर बैठ गए। वह स्वागत के लिए पहुंचे समर्थकों को हिरासत में लिए जाने से खिन्न थे। करीब दो घंटे तक धरने पर बैठने के बाद प्रहलाद मोदी ने कार्यकर्ताओं से फोन पर बात की और धरना समाप्त कर सुलतानपुर रवाना हो गए।

loksabha election banner

इस दौरान उन्होंने कहा, मेरे बच्चे जेल में रहें और मैं बाहर रहूं, यह ठीक नहीं है। उनको मुक्त करो, वरना मैं यहां अनशन पर बैठा रहूंगा। हालांकि, पुलिस का कहना है कि किसी कार्यकर्ता को नहीं पकड़ा गया था। एडीसीपी चिरंजीवनाथ सिन्हा का दावा है कि उनके किसी भी समर्थक को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

प्रहलाद मोदी बुधवार को सुलतानपुर में योग सोशल सोसाइटी के कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे। दोपहर 2:45 बजे चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंचे थे। उनके एक समर्थक का दावा है कि 10 से अधिक कार्यकर्ता भी प्रहलाद मोदी के स्वागत के लिए पहुंचे थे, सभी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। योग सोशल सोसाइटी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष माया ए आनंद का आरोप है कि प्रहलाद मोदी को सुलतानपुर रवाना होना था। इसके बाद उन्हें जौनपुर व प्रतापगढ़ समेत कई अन्य जनपदों में निजी सामाजिक कार्यक्रमों में जाना था। पुलिस ने सोसाइटी के संरक्षक चिनहट निवासी हरिराम को रात में ही घर से हिरासत में ले लिया था। इसकी सूचना से प्रहलाद मोदी नाराज हो गए।

यह था मामला

जानकारी के मुताबिक बीते दिनों प्रधानमंत्री जनकल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार अभियान कार्यक्रम की घोषणा कर अवैध रूप से प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, मुख्यमंत्री, उप-मुख्यमंत्री व सांसद सुलतानपुर व अन्य के चित्र प्रदर्शीत किए गए थे। जनमानस में इसको सरकारी कार्यक्रम का भ्रम पैदा करते हुए अनुचित लाभ लेने का प्रयास किया गया। इस मामले में जितेंद्र तिवारी उर्फ जीत और मनीष कुमार बर्नवाल के खिलाफ थाना कोतवाली सुलतानपुर में एफआइआर दर्ज की गई। इसके बाद सुलतानपुर में जितेंद्र तिवारी को गिरफ्तार कर लिया गया था।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.