लखनऊ, जेएनएन। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार पर नियंत्रण करने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अब नया फॉर्मूला खोजा है। प्रदेश में शुक्रवार रात से 55 घंटे के लॉकडाउन के बाद अब हर हफ्ते दो दिन का लॉकडाउन करने का निर्णय लिया गया है। मिनी लॉकडाउन के तहत प्रदेश में अब सिर्फ पांच दिन कार्यालय तथा बाजार खुलेंगे। यानी कोरोना के संक्रमण काल तक प्रदेश में फाइव डे वीक के तहत काम होगा।

कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते जा रहे मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा फैसला लिया है कि अब सभी बाजार सोमवार से शुक्रवार सुबह नौ रात नौ बजे तक ही खुलेंगे। शनिवार और रविवार की साप्ताहिक बंदी रहेगी। इन दो दिनों में बड़े पैमाने पर सफाई और सैनिटाइजेशन का काम कराया जाएगा। इस संबंध में रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश जारी कर दिए।

तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। इसके साथ ही अब संचारी रोगों का भी खतरा है। इसे देखते हुए प्रदेश में शुक्रवार, शनिवार और रविवार को व्यापक स्तर पर सैनिटाइजेशन व स्वच्छता अभियान चलाया गया। इसके लिए आवश्यक सेवाएं छोड़कर सभी गतिविधियों को प्रतिबंधित कर दिया गया। रविवार को मुख्यमंत्री ने अपने सरकारी आवास पर आयोजित बैठक में इस अभियान की समीक्षा की।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अपने सरकारी आवास पर टीम-11 के साथ कोविड-19 के प्रभाव में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की। इस अवसर पर उन्होंने निर्देश दिया कि कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत अब प्रदेश में अग्रिम आदेश तक सभी बाजार सोमवार से शुक्रवार तक खुलेंगे। सभी जगह शनिवार व रविवार को साप्ताहिक बंदी रहेगी। साप्ताहिक बंदी के दौरान प्रदेश में सभी बाजारों की स्वच्छता एवं सैनिटाइजेशन के लिए विशेष कार्यक्रम चलेगा। इसके साथ औद्योगिक इकाइयों को शनिवार व रविवार को अपने यहां सेनिटाइजेशन का कार्य कराने के निर्देश दिया गया है। इस दौरान सभी कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। इसके साथ वर्तमान में चल रहे निर्माण कार्य जैसे एक्सप्रेस-वे, डैम इत्यादि तथा बाढ़ के दृष्टिगत तटबन्धों की मरम्मत के कार्य सोशल डिस्टेंसिंग के साथ निरन्तर किए जाएं। 

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि अब स्वच्छता और सैनिटाइजेशन का यह अभियान प्रदेश भर में हर शनिवार और रविवार को चलाया जाएगा। इसके लिए दोनों दिन सभी बाजार पूरी तरह से बंद रहेंगे। बाजार सिर्फ सोमवार से शुक्रवार ही खोले जाएंगे। इसके अलावा सभी औद्योगिक इकाइयां चलती रहेंगी, लेकिन उन्हें भी अपने परिसर में स्वच्छता और सैनिटाइजेशन कराना होगा। वर्तमान में चल रहे निर्माण कार्य जैसे एक्सप्रेसवे, डैम, तटबंधों की मरम्मत का काम भी इस साप्ताहिक बंदी के दौरान शारीरिक दूरी के पालन के साथ चलता रहेगा।

मुख्य सचिव आरके तिवारी ने कहा कि संक्रमण से बचाव के लिए स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और शारीरिक दूरी बहुत जरूरी है। इसे देखते हुए ही मुख्यमंत्री ने दो दिन की साप्ताहिक बंदी के निर्देश दिए हैं। औद्योगिक इकाइयां, निजी दफ्तर व अन्य आर्थिक गतिविधियां चलती रहेंगी। यह बंदी खास तौर पर बाजारों के लिए है।

इसे भी पढ़ें- UP, बिहार समेत देश के कई राज्यों में लॉकडाउन, पुणे में कल से होगा लागू

77 हजार राजस्व गांव और नौ हजार नगरीय निकायों में चला अभियान : बैठक में अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि तीन दिवसीय स्वच्छता व सैनिटाइजेशन अभियान के तहत 77 हजार राजस्व गांव और नौ हजार नगरीय निकायों के वार्डों में सफाई व फॉगिंग कराई गई है। ग्राम प्रधानों से संपर्क कर विशेष सफाई अभियान चलाने के लिए निर्देशित किया गया है। सैनिटाइजेशन में 915 फायर ब्रिगेड की गाड़ियां लगाई गई हैं, जिनसे विभिन्न जिलों में कुल 7058 स्थानों पर सैनिटाइजेशन कराया गया। घर-घर पहुंचकर सर्वे भी किया जा रहा है।

अब पचास हजार टेस्ट प्रतिदिन का लक्ष्य : सीएम योगी ने टेस्टिंग क्षमता बढ़ाने के लिए भी कहा है। अभी तक चालीस हजार जांच के लिए कहा था, जबकि अब निर्देश दिए हैं कि पचास हजार कोरोना टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। उन्होंने गोरखपुर के मंडलायुक्त को अपने मंडल के सभी जिलों में कोविड-19 से रोकथाम व संचारी रोगों को देखते हुए चलाए जा रहे अभियानों की प्रभावी निगरानी के निर्देश दिए। साथ ही अधिकारियों से कहा कि कानपुर नगर, देवरिया, कुशीनगर, बलिया व वाराणसी में विशेष सतर्कता बरती जाए।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस