लखनऊ, जेएनएन। Lucknow MLC Election 2020 Results: स्नातक निर्वाचन  निर्वाचन खंड लखनऊ के भाजपा उम्मीदवार अवनीश कुमार सिंह 6403 से जीते उन्होंने अंतिम दौर की मतगणना में प्रतिद्वंदी निर्दलीय प्रत्याशी कांति सिंह को 6403 वोटों से शिकस्त दी है। देर रात से शुरू हुई मतगणना दोपहर बाद तक जारी रही, हालांकि अभी औपचारिक घोषणा नहीं की गई है लेकिन कार्यकर्ताओं में जीत का जोश नजर आने लगा है। विपक्षी कांति सिंह की ओर से पहले ही सब मैदान छोड़कर चले गए थे। अवनीश को 39588 वोट मिले जबकि कांति सिंह को 33185 वोट मिले है। कुमार सिंह ने युवाओं की उन्नति और उनके विकास के लिए जो भी सरकार की योजनाएं हैं उन को लागू करने का संकल्प लिया है। 

चुनाव में हार जीत का फैसला कुल मतों के 50 फीसद मत पर निर्भर करता है। करीब एक लाख वैध मतों के सापेक्ष जीत के लिए करीब 50 फीसद मत की जरूरत होगी। द्वितीय वरीयता क्रम की मतगणना के बाद यदि यदि मतों की संख्या 50 फीसद से कम होगी तो फिर से   गिनती शुरू होगी। यह क्रम तब तक जारी रहेगा जब तक 50 फीसद मत ना मिल जाए। वहीं दूसरी ओर वोटों की संख्या बढ़ने से एक ओर जहां भाजपा खेमे में खुशी की लहर है तो दूसरी ओर निर्दल प्रत्याशी कांति सिंह के खेमे में मायूसी है। भाजपा के प्रत्याशियों व समर्थकों द्वारा देर रात तक जय श्रीराम के नारे लगाए गए। हालांकि जब तक जीत का प्रमाण पत्र न मिल जाए तब तक यह सुनिश्चित ना होने की बात कहने कह रहे अवनीश कुमार सिंह के चेहरे पर भी जीत की मुस्कान नजर नहीं आ रही थी। मतगणना में लगे अधिकारियों के मुताबिक चुनाव की पूरी प्रक्रिया के बाद ही परिणाम घोषित होगा।

जीत के लिए वैध वोटों  109323 का 50 फीसद चाहिए

जीत के लिए भाजपा प्रत्याशी को 109323 मतों के सापेक्ष 50 फीसद मत चाहिए। भाजपा प्रत्याशी अवनीश कुमार सिंह ने बताया कि यह संख्या पाने के लिए मतगणना कई चरणों में होगी। निर्वाचन अधिकारी तय करेंगे की संख्या कैसे पूरी होगी। तीन वरीयता क्रम की गणना के बावजूद यदि यह संख्या नहीं मिलती है तो सबसे कम वोट पाने वाले प्रत्याशी के अंकों को सभी में बराबर बराबर बांटा जाएगा। मतगणना की प्रक्रिया जारी है।

स्नातक लखनऊ खंड निर्वाचन में शनिवार को बाजी पलट गई। भाजपा प्रत्‍याशी इंजीनियर अवनीश कुमार सिंह ने छठे राउंड से ही बढ़त बनानी प्रारंभ कर दी, जो नौंवे राउंड तक जारी रही। अवनीश निर्दलीय कांति सिंह को 3168 वोटों से पछाड़कर लगातार आगे बढ़ रहे हैं। अब तक अवनीश को 35136 और निर्दलीय कांति सिंह को 10499 वोट मिले। रात के दो बज चुके हैं, लकिन अभी भी मतगणना जारी है। 

बता दें, शुक्रवार देर रात तक कांति सिंह बढ़त बनाए हुई थीं। यही वजह थी, शनिवार की मतगणना को लेकर दोनों ही खेमों में उत्साह सुबह से ही नजर आया। जैसे-जैसे परिणाम आते गए, गहमा-गहमी बढ़ती गई। चौंकाने वाला मोड़ छठे चरण में आया, जब पांच चरणों से पीछे चल रहे अवनीश कुमार सिंह ने कांति सिंह को 513 वोट से पीछे धकेल दिया। आठवें राउंड में अवनीश 2746 वोटों से आगे रहे। 

ऐसे पलटती गई बाजी 

मतगणना के चौथे चरण में कांति सिंह को 1149 मतों की बढ़त थी। सुबह पांचवें चरण में भी वह 740 वोटों से आगे बनी रहीं। कभी मतपत्रों की गिनती को लेकर तो कभी प्रशासनिक लापरवाही को लेकर हंगामा भी साथ-साथ होता रहा। उधर, गिनती में पिछडऩे के बाद कांति सिंह के समर्थकों का आरोप है कि प्रशासन वोटों को अवैध करने में लगा है ताकि सत्ताधारी दल के उम्मीदवार को फायदा हो सके। 

कांति सिंह ने वीडीओ जारी कर प्रशासन पर लगाया आरोप

मतगणना में गड़बड़ी को लेकर निर्दलीय उम्मीदवार कांति सिंह के पति व पूर्व एमएलसी एसपी सिंह ने चुनाव पर्यवेक्षक भुवनेश कुमार से शिकायत कर टेबल संख्या 13 की वीडियो फुटेज निकालकर जांच करने की मांग की है। कांति सिंह ने एजेंटों से मारपीट करने का आरोप लगाया है। एजेंट रितेश के साथ मारपीट का आरोप लगाया है। उन्होंने वीडियो भी जारी किया है।

कांत‍ि स‍िंह ने लगाया धांधली का आरोप 

स्नातक  लखनऊ खंड निर्वाचन चुनाव की मतगणना के पांचवें चरण में निर्दलीय उम्मीदवार कांति सिंह भाजपा के अवनीश कुमार सिंह से आगे चल रही थे। चौथे चरण में 1149 मतों से कांति सिंह भाजपा उम्मीदवार से आगे चल रही थीं कि शनिवार को सुबह पांचवें चरण में भी वह 740 वोटों से आगे रही। राउंड खत्म होने के साथ ही अगले राउंड की शुरुआत करने से पहले मतगणना को लेकर कार्यकर्ताओं में मंथन किया जा रहा था। ठंड के बावजूद दोनों ही पक्ष के एजेंट मतगणना स्थल पर डटे रहे। कभी मतपत्रों की गिनती को लेकर तो कभी प्रशासनिक लापरवाही को ले कर हंगामा हो रहा था। सुरक्षा बंदोबस्त के बीच  मतगणना चलती रही। वहीं, कांति सिंह के समर्थकों का आरोप है कि प्रशासन वोटों को अवैध करने में लगा है जिससे सत्ताधारी दल उम्मीदवार को फायदा हो सके। अभी अंतिम व नवा चरण बाकी है।

चलता रहा राउंड, बढ़ती रहीं धड़कनें

मतगणना के दौरान लगातार बढ़त बना रहे भाजपा के अवनीश कुमार सिंह कम अंतर को लेकर परेशान दिखे। वहीं, अवनीश का अंतर खत्म करने के लिए निर्दलीय कांति सिंह समर्थकों के संग गिनती पर पैनी नजर बनाएं रहीं। 14 टेबलों पर हो रही काउंटिंग में दोनों पक्षों के समर्थक ठंड के बाद भी डटे रहे। 

8वें चरण के बाद प्रत्याशियों के मतो की संख्या 

  • अवनीश कुमार सिंह (भाजपा)-  33827
  • कांति सिंह (निर्दलीय)- 31081
  • राम सिंह राणा (सपा)- 10233
  • मुहम्मद रिजवान- 8853
  • ब्रज किशोर शुक्ला- 8486
  • ब्रजेश कुमार सिंह (कांग्रेस)- 3108
  • क्रांति सिंह- 1693
  • बाबा हरदेव सिंह- 1445
  • अजय कुमार श्रीवास्तव- 1108
  • अशीष कुमार आर्या- 540
  • एजाज अहमद- 514
  • कांति कुमार- 506
  • नीलम सरोज- 464
  • हरीश कुमार शुक्ला- 433
  • अवनीश कुमार सिंह- 431
  • मनोज कुमार वर्मा- 404
  • जगजीवन सिंह- 367
  • वकील अहमद अंसारी- 357
  • सुरेन्द्र कुमार गौतम- 349
  • विजय कुमार सिंह- 337
  • चंद्रमणि सिंह- 303
  • प. मनीष महाजन- 115
  • डॉ सत्येंद्र कुमार पांडेय- 55
  • श्रवण कुमार त्रिपाठी- 27

गौरतलब हैै क‍ि पांचवें चरण में निर्दलीय उम्मीदवार कांति सिंह भाजपा के अवनीश कुमार सिंह से आगे चल रही थींं। चौथे चरण में 1149 मतों से कांति सिंह भाजपा उम्मीदवार से आगे चल रही थीं। शनिवार को सुबह पांचवें चरण में भी 740 वोटों से उनसे आगे रहने से एक ओर जहां कांति सिंह के समर्थकों में उत्साह नजर आ रहा था दूसरी ओर भाजपा के उम्मीदवार अविनाश कुमार के खेमे में मायूसी छाई हुई थी। हर राउंड खत्म होने के साथ ही अगले राउंड की शुरुआत करने से पहले मतगणना को लेकर कार्यकर्ताओं में मंथन किया जा रहा था। ठंड के बावजूद दोनों ही पक्ष के एजेंट मतगणना स्थल पर डटे रहे। कभी मतपत्रों की गिनती को लेकर तो कभी प्रशासनिक लापरवाही को ले कर हंगामा हो रहा था। सुरक्षा बंदोबस्त के बीच मतगणना चलती रही। वहीं, कांति सिंह के समर्थकों का आरोप है कि प्रशासन वोटों को अवैध करने में लगा है जिससे सत्ताधारी दल उम्मीदवार को फायदा हो सके।

सेल्फी लेने पर हंगामा, हटाये गए नायब तहसीलदार

शुक्रवार की देर रात मतगणना में लगे नायब तहसीलदार रमन द्वारा निर्दल उम्मीदवार कांति सिंह के पति व पूर्व एमएलसी एसपी सिंह के साथ सेल्फी ले लिया। इस पर भाजपा के समर्थकों ने जहां इसका विरोध किया वहीं जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने मामला बढ़ता देख उन्हें मतगणना स्थल से हटा दिया। भाजपा उम्मीदवार अवनीश कुमार का आरोप है कि नायब तहसीलदार स्ट्रांग रूम में सेल्फी ले रहा था। सवाल ये उठता है कि वह वहां कैसे गया प्रशासन को इसकी जांच कर कार्यवाही करनी चाहिए। वहीं निर्दलीय उम्मीदवार कांति सिंह का कहना है कि ये लगातार पीछे चल रहे है इसकी वजह से यह बौखला गए हैं किसी के साथ सेल्फी लेना या किसी के सम्मान करने को मतगणना में बाधा बताना तर्कसंगत नहीं लगता है।

कांटे के मुकाबले में तीसरे राउंड की समाप्ति के साथ निर्दलीय प्रत्याशी कांति सि‍ंह भाजपा के अवनीश कुमार सि‍ंह से महज 657 वोटो से आगे थीं। हालांकि, पहले राउंड में एक हजार का अंतर था, जो तीसरा राउंड आते-आते घट गया। इससे पहले बूथ संख्या 181 की मतपेटी में गड़बड़ी को लेकर कांति स‍िंंह के समर्थकों ने हंगामा किया। देर रात जिला प्रशासन से लिखित शिकायत भी की गई। उधर, टेबल संख्या तीन में मतगणना के दौरान भाजपा के एजेंटों की कर्मचारियों से कहासुनी भी हुई। भाजपा समर्थकों ने कर्मचारियों पर अभद्र भाषा के इस्तेमाल का आरोप लगाया। पुलिस ने किसी तरह लोगों को शांत कराकर मतगणना शुरू कराई। कुल नौ राउंड की गिनती के बाद परिणाम सामने आएगा। प्रत्येक राउंड में करीब दो घंटे का समय लगता है। अधिकारियों का कहना है कि शुक्रवार रातभर मतगणना जारी रहेगी, जिसका परिणाम शनिवार सुबह तक आएगा। मतगणना के पहले राउंड से कांति स‍ि‍ंंह बढ़त बनाए हुए हैं। 

गुरुवार देर रात तक मतदान पत्रों की गड्डी बनाई गई और शुक्रवार तड़के मतगणना शुरू हो गई। अवैध व वैध मतपत्रों की संख्या के मुताबिक, कांति ङ्क्षसह ने पहले राउंड में भाजपा प्रत्याशी से एक हजार मतों से बढ़त बना ली। कर्मचारियों की शिफ्ट बदलने के कारण करीब 45 मिनट तक मतगणना रोकनी पड़ी। सभी प्रत्याशी देर रात तक समर्थकों के साथ डटे रहे। इस दौरान बीच बीच मे हंगामा भी होता रहा। सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस बल मुस्तैद है।  

लगातार किए गए संघर्ष ने उन्हें सफलता दिलाई है : प्रत्याशी उमेश द्विवेदी 
जीत दर्ज करने के बाद भाजपा प्रत्याशी उमेश द्विवेदी ने कहा कि शिक्षकों के लिए लगातार किए गए संघर्ष ने उन्हें सफलता दिलाई है उन्होंने जीत का श्रेय अपने साथियों को दिया। उमेश द्विवेदी रायबरेली ज़थित सरस्वती इंटर कॉलेज अरखा ऊंचाहार के प्रधानाध्यापक हैं और वर्ष 2008 से वित्तविहीन शिक्षकों की आवाज उठा रहे हैं। वर्ष 2014 में भी उन्होंने जीत दर्ज की थी। हालांकि, वर्ष 2008 में उन्हें महज 25 वोट मिले थे। मूलरूप से प्रतापगढ़ के लालगंज अवहारा निवासी उमेश द्विवेदी की पत्नी रीता भी शिक्षक हैं। उमेश द्विवेदी ने कहा कि वित्तविहीन शिक्षकों का विनियमितीकरण और उन्हें मानदेय दिलाना मेरे लिए चुनौती है। 

 

लखनऊ शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के लिए देर रात तक चल रही मतगणना में शुक्रवार को भाजपा प्रत्याशी उमेश कुमार द्विवेदी विजयी हुए। चुनाव में कुल 17985 वोट पड़े। इनमे 17077 वैध मतों की गिनती के बाद उमेश द्विवेदी को विजयी घोषित किया गया। भाजपा प्रत्याशी को 7065 वोट मिले हैं। उन्होंने दूसरे स्थान पर रहे डॉ महेंद्र नाथ राय को 3247 वोट से शिकस्त दी। जीत की घोषणा के बाद उमेश द्विवेदी को मंडलायुक्त रंजन कुमार ने प्रमाण पत्र दिया। निर्दलीय प्रत्याशी डा.महेंद्र नाथ राय को 3818 मत मिले। वहीं समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी उमाशंकर को 2238 प्रथम वरीयता मत मिले। निर्दलीय प्रत्याशी डा.आरपी मिश्र को 1975, शाह आलम खान को 1269 और सोहन लाल वर्मा को 986 मत मिले। इससे पहले प्रथम वरीयता वाले मतों की गिनती हुई। इसके बाद दूसरे व तीसरे वरीयता के मत गिने गए। जिन प्रत्याशियों को बेहद कम वोट मिले थे वह लड़ाई से बाहर हो गए सर्वाधिक वोट पाने के कारण भाजपा प्रत्याशी को विजयी घोषित किया गया। वहीं, स्नातक निर्वाचन खंड की मतगणना जारी है। 

स्नातक निर्वाचन खण्ड की मतगणना जारी, कांति सिंह आगे 

अभी स्नातक निर्वाचन खंड की मतगणना जारी है। मतगणना के तीसरे राउंड की समाप्ति के साथ निर्दलीय प्रत्याशी कांति सिंह भाजपा के अवनीश कुमार सिंह से 657 वोटो से आगे थीं। पहले राउंड में एक हजार का अंतर था। हालांकि, तीसरे राउंड तक अंतर कम हो गया, जिससे कांति सिंह के समर्थक उदास दिखे। वहीं भाजपा प्रत्याशी के समर्थक उत्साहित नजर आए।

इससे पहले बूथ संख्या 181 की मतपेटी में गड़बड़ी को लेकर कांति सिंह के समर्थकों ने हंगामा किया। निर्दलीय प्रत्याशी कांति सिंह की ओर से देर रात में जिला प्रशासन से लिखित शिकायत भी की गई। उधर, टेबल संख्या तीन में मतगणना के दौरान भाजपा के एजेंटो का वहां के कर्मचारियों से कहासुनी भी हुई। भाजपा समर्थकों ने कर्मचारियों पर अभद्र भाषा के इस्तेमाल का आरोप लगाया।  पुलिस ने किसी तरह लोगों को शांत कराकर मतगणना शुरू कराई। कुल नौ राउंड की गिनती के बाद परिणाम सामने आएगा। प्रत्येक राउंड में करीब दो घंटे का समय लगता है। अधिकारियों का कहना है कि शुक्रवार रात भर मतगणना जारी रहेगी, जिसका परिणाम शनिवार सुबह आएगा। मतगणना के पहले राउंड से कांति सिंह बढ़त बनाए हुए हैं। गुरुवार देर रात तक मतदान पत्रों की गड्डी बनाई गई और शुक्रवार तड़के मतगणना शुरू हो गई। अवैध व वैध मतपत्रों की संख्या के मुताबिक कांति सिंह ने पहले राउंड में भाजपा प्रत्याशी से एक हजार मतों से बढ़त बना ली। कर्मचारियों की शिफ्ट बदलने के कारण करीब 45 मिंट तक मतगणना बन्द रही। सभी प्रत्याशी देर रात तक समर्थकों के साथ डटे रहे। इस दौरान बीच बीच मे हंगामा भी होता रहा। सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस बल मुस्तैद है। 

गौरतलब है कि गुरुवार को लखनऊ में सत्ताधारी दल पर मनमाने एजेंट बनवाने और पेटी सील करने में धांधली का आरोप लगाकर प्रत्याशियों ने जमकर हंगामा किया था। मंडलायुक्त रंजन कुमार और डीएम अभिषेक प्रकाश ने किसी तरह मामले को शांत कराया और मतगणना स्थल से अनाधिकृत लोगों को बाहर किया। इसके बाद देर शाम को कांति सिंह समेत कई प्रत्याशी धरने पर बैठ गए। उनका आरोप था कि सत्ताधारी दल के दबाव में चुनाव परिणाम को प्रभावित करने की कोशिश की जा है। इनका आरोप था कि 24 प्रत्याशियों में 23 को हराने के षड़यंत्र चल रहा है और अधिकारी सुन नहीं रहे है। सत्ताधारी दल के दबाव में काम हो रहा है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021