लखनऊ [संदीप पांडेय]। केजीएमयू में हड्डी के मरीजों को बेहतर इलाज मिलेगा। यहां सुपर स्पेशियलिटी ऑर्थो सेंटर बनेगा। संस्थान प्रशासन ने शासन को प्रोजेक्ट बनाकर भेज दिया है। वहीं अब प्रस्तावित स्पाइन सेंटर भी इसी का हिस्सा होगा।

केजीएमयू के लिंब सेंटर के पीछे नौ मंजिला भवन में ऑर्थो सेंटर बनेगा। कार्यदायी संस्था ने भवन का नक्शा व लागत की रिपोर्ट संस्थान प्रशासन को सौंप दी। वहीं 15 दिन पहले केजीएमयू प्रशासन ने प्रोजेक्ट शासन को भेज दिया है। ऐसे में एक छत के नीचे हड्डी रोग के आधुनिक इलाज की सुविधा होगी। भवन में सभी सुपर स्पेशयलिटी विभाग व यूनिट खुलेंगी। वहीं केंद्र सरकार द्वारा वर्ष भर से प्रस्तावित स्पाइन सेंटर को भी इसी भवन में जगह मिलेगी। 

नी-हिप रिप्लेसमेंट का अलग विभाग : ऑर्थो सेंटर में ऑथरेप्लास्टी विभाग होगा। इस विभाग में नी-हिप रिप्लेसमेंट (घुटना-कूल्हा प्रत्यारोपण) की अलग से आधुनिक सुविधा होगी। अभी यह ऑपरेशन ऑथरेपेडिक सर्जरी विभाग में किए जाते हैं। इसमें प्रथम चरण में 30 बेड की यूनिट होगी। जिसके प्रभारी डॉ. संतोष कुमार होंगे। इसके बाद विभाग की मान्यता के लिए एमसीआइ को आवेदन किया जाएगा।

यह भी खुलेंगे विभाग : ऑथरे सेंटर में ऑर्थोप्लास्टी समेत कुल चार विभाग व सेंटर होंगे। पीडियाटिक ऑथरेपेडिक विभाग, स्पाइन सेंटर व स्पोर्ट मेडिसिन विभाग इसी भवन में खुलेंगे। सभी में 30-30 बेड होंगे।

90 करोड़ में बनेगा भवन : कुलसचिव राजेश राय के मुताबिक ऑथरे सेंटर लगभग 90 करोड़ का बनेगा। इसमें लोअर बेसमेंट, अपर बेसमेंट, ग्राउंड फ्लोर समेत छह और तल होंगे।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस