लखनऊ, संवाद सूत्र। इटौंजा में पुलिस का व्यवहार जनता से आज भी अंग्रेजों के शासन काल जैसा ही है। पुलिस सुधार के लिये तमाम पहल होने के बावजूद ये सुधरने का नाम नहीं ले रही है। बुधवार को सोशल मीडिया पर इटौंजा के थानेदार का एक ऐसा ही वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगा। वीडियो में वह एक बुजुर्ग को तानाशाही अंदाज में न सिर्फ गालियों से नवाज रहे थे। बल्कि ड्यूटी पर तैनात संतरी को उसे परिसर से बाहर खदेड़ने को कह रहे थे। थाना प्रभारी जीतेंद्र प्रताप सिंह के इस व्यवहार से नाराज एसपी ग्रामीण ह्यदेश कुमार ने उन्हें निलंबित कर दिया है।

पुलिस का जनता से जिस तरह का बर्ताव वायरल वीडियो में देखने को मिला उससे सहज इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है जब राजधानी के थानों पर ये हाल है तो दूरदराज के जिलों में तो पुलिस पूरी हिटलर शाही ही झाड़ती होगी। इटौंजा थाने के प्रभारी के बुजुर्ग के साथ किये जा रहे दुर्व्यवहार की यह वीडियो एक दिन पहले की है जो आज सोशल मीडिया पर वायरल हुई। ग्राम चकिया थाना कुर्सी जिला बाराबंकी निवासी राम प्रसाद के लड़के विनोद कुमार को पुलिस के नाम पर अवैध वसूली के मामले में पुलिस ने एक दिन पहले गिरफ्तार किया था‌। जानकारी होने पर उसके पिता उससे मिलने के लिये थाना परिसर पहुंचे ही थे।

पूछने के बाद थाना प्रभारी जीतेंद्र प्रताप सिंह थानेदारी के घमंड में अपना आपा खो बैठे और आग बबूला होकर उस बुजुर्ग को तेज तेज गालियां देते हुए पहरे पर तैनात संतरी को उसे थाना परिसर से बाहर भगाने का फरमान सुना डाला। थाना प्रभारी की इस करतूत को किसी ने अपने मोबाइल फोन में शूट कर लिया। थाना प्रभारी के इस दुर्व्यवहार की वीडियो वायरल होते ही पुलिस मोहकमे में हड़कंप मच गया। लखनऊ ग्रामीण एसपी ह्यदेश कुमार ने बताया इटौंजा के थाना प्रभारी की सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो का संज्ञान लेकर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। पूरे प्रकरण की बीकेटी के सीओ को जांच के निर्देश दिये गये हैं। जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कारवाई तय की जायेगी।

Edited By: Anurag Gupta