लखनऊ, जागरण संवाददाता। दुबग्गा जागर्स पार्क के पास शुक्रवार सुबह 13 वर्षीय बच्चे को गुमटी में दुकान चलाने वाली शांति देवी और उसके आस-पड़ोस के लोगों ने पेड़ से बांधकर पीटा। इतना ही नहीं, इस अमानवीय कृत्य का लोगों ने वीडियो बनाकर इंटरनेट मीडिया पर भी वायरल कर दिया। बच्चे की सुलभ बदमाशी पर लोगों ने क्रूरता की हद पार कर दी। हालांकि, जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने शांति समेत चार लोगों को हिरासत में ले लिया। शांती का आरोप है कि बच्चे ने 200 रुपये का चूरन वाला नकली नोट देकर 65 रुपये का बिस्कुट, चाकलेट और कुछ अन्य सामान खरीदा था। उधर, घटना के बाद से बच्चा लापता है, पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

चूरन वाला नकली नोट देकर सामान खरीदने का आरोपः शांति के मुताबिक उनके पति राम किशोर की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। सुबह जब वह घर का काम करती हैं तो वह दुकान पर बैठते हैं। शांति ने बताया कि इस बीच बीते तीन-चार दिनों से यह लड़का आ रहा था। कभी 50 तो कभी 100 रुपये का नकली नोट देकर पति से सामान ले जाता था। जब वह दुकान पर आतीं तो गुल्लक चेक करने पर उन्हें इसकी जानकारी होती। पूछताछ करने पर पति ठीक से बता नहीं पाते थे कि कौन यह नकली रुपये से सामान ले जाता है। पति को लड़के पर ही आशंका हुई।

शांति ने बताया कि शुक्रवार सुबह इसकी पड़ताल के लिए वह गुमटी के पीछे खड़ी हो गईं। कुछ देर बाद लड़का आया उसने 200 रुपये का नोट दिया। सिगरेट, बिस्कुट और चाकलेट ली। 65 रुपये हुए पति बाकी के 135 रुपये वापस कर रहे थे। तभी उसे पकड़ लिया गया। नोट देखा तो वह नकली चूरन वाला था। बच्चे को डांटा गया तो आस पड़ोस के लोग आ गए। उन्होंने पकड़ा और पेड़ से बांध कर वीडियो बना लिया। वहीं कुछ लोगों को कहना है कि बच्चे को पहले पीटा था फिर वीडियो बनाया। कुछ देर बाद बच्चे को छोड़ दिया गया। बच्चे से उसके बारे में पूछा गया तो कहा कि उसके माता पिता नहीं है। पर उसने अपना नाम पर पता नहीं बताया था। फिर छोड़ दिया गया था। 

बच्चा गायब, तलाश जारीः बंधन से मुक्त होने के बाद बच्चा कहां गया इस बारे में न तो शांति कुछ पता पाई और न ही पुलिस। इंस्पेक्टर काकोरी बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि शांति उसके भाई समेत चार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जो भी तथ्या सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। बच्चे का पता लगाया जा रहा है।

Edited By: Vikas Mishra