लखनऊ (जेएनएन)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को केरल के कन्नूर जिले के पयन्नूर में होंगे। वहां उनको भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ एक पदयात्रा में शामिल होना है। चूंकि योगी का शुमार हिंदू नेता के रूप में होता है। मुख्यमंत्री बनने के बाद भी जिस तरह उन्होंने लगातार अयोध्या का दौरा किया, विकास के एजेंडे में तीर्थस्थलों को प्राथमिकता पर रखा, इससे उनके ब्रांड को और बल मिलता है।

 

यही वजह है कि केरल के हिंदुओं को आकर्षित करने के लिए नेतृत्व की ओर से योगी को अचानक केरल बुलाया गया। अचानक तय कार्यक्रम के नाते मुख्यमंत्री के मंगलवार रात और बुधवार के सारे कार्यक्रम रद कर दिए गए। मुख्यमंत्री को कैबिनेट बैठक के बाद भारतीय विदेश सेवा के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ मुलाकात, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा, नगर विकास विभाग एवं राज्य निर्वाचन आयुक्त के साथ बैठक करनी थी। 

यह भी पढ़ें:  कैबिनेट फैसलाः यूपी में सब्सिडी के लिए डायरेक्ट बेनिफिट ट्रान्सफर

मालूम हो कि केरल में पिछले कई वर्षों से सत्तारूढ़ वामपंथी गठबंधन सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं में संघर्ष चल रहा है। इस दौरान संघ के कई कार्यकर्ताओं की हत्या हो चुकी है। संघ परिवार और भाजपा इस पर समय पर कड़ी आपत्ति जताते रहे हैं।

 

हाल के दिनों में संघ की ओर से केरल सहित देश भर में गोष्ठियां आयोजित की गईं और आरोप लगाया गया कि हत्याओं के पीछे सत्तारूढ़ वामपंथी गठबंधन सरकार का हाथ है। हत्याओं में उनके कैडर के लोग संलिप्त हैं और उनको सत्तापक्ष का संरक्षण हासिल है। इसके विरोध में भाजपा के वरिष्ठ नेता भी केरल का दौरा कर चुके हैं। इसी क्रम में बुधवार को अमित शाह का भी दौरा है। 

यह भी पढ़ें: यूपी की कानून व्यवस्था बिगड़ी, राजनीतिक हत्याओं का दौर शुरू : मायावती

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस