लखनऊ[दुर्गा शर्मा]। हर चौथा व्यक्ति अधिक वजन से परेशान है। जिम में पसीना बहाने के बावजूद भी शरीर फिट नहीं है। रोजाना चलने के बाद भी सेहत दौड़ नहीं रही है। व्यायाम से शरीर टूट रहा है। एक्सरसाइज में समय व्यतीत करने के बजाए इस पर ध्यान देना भी जरूरी है कि हम कितने घंटे बैठे रहते हैं। 

सही समय और तरीके से व्यायाम करने पर इसके लाभ मिलते हैं। सही आहार और नींद की भी अपनी अहमियत है। एक्सरसाइज को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। रोजना की वॉक और व्यायाम से आपकी सेहत भी दौडऩे लगेगी। 

इन बातों का रखें ख्याल  

  • पहले यह तय करें कि आप रोजाना व्यायाम को कितना समय दे सकते हैं। यह 40 मिनट से कम और डेढ़ घंटे से ज्यादा न हो।
  • जिम आने के 15 मिनट पहले हल्का-फुल्का कुछ जरूर खा लें। यह माना जाता है कि एक्सरसाइज खाली पेट करना चाहिए, पर यह नियम योग और प्राणायाम के लिए है। जिमिंग के लिए पर्याप्त ऊर्जा का होना जरूरी है। 

इन बातों पर करें अमल 

  • व्यायाम का लाभ तभी है, जब इसे नियमित रूप से किया जाए।  
  • जिम करते वक्त सही पोजीशन का होना जरूरी है।
  • वर्कआउट में सभी एक्सरसाइज पहले सही तरह से सीख लें। 
  • हफ्ते में तीन दिन वेट ट्रेनिंग और तीन दिन कार्डियो करना सही रहता है।
  • शुरुआत में थोड़ा वार्म अप और अंत में स्ट्रेचिंग जरूर करें। इससे शरीर में लचीलापन बना रहता है। 

 

विविधता का रखें ध्यान 

लगातार एक ही तरह के व्यायाम की शरीर को आदत हो जाती है तो भी उसका सकारात्मक परिणाम दिखना बंद हो जाता है। लिहाजा एक्सरसाइज में विविधता का ध्यान रखना जरूरी है। व्यायाम विशेषज्ञ के मार्गदर्शन के अनुसार एक्सरसाइज के तरीके प्लान करें। फुटबॉल या अन्य खेलों से जुडऩा भी शारीरिक चुस्ती के लिए फायदेमंद है। 

चलें और दौड़ें 

टहलना और दौडऩा सबसे अच्छे व्यायाम हैं। खूब चलें और दौड़ें पर श्वसन क्रिया पर नियंत्रण रखें। वजन कम होना, शारीरिक क्षमता बढऩा आदि दौडऩे के अहम फायदे हैं। 

न आने दें कमजोरी 

फिटनेस विशेष मानते हैं कि दिन की शुरुआत में अधिक कैलोरी का सेवन करना और खाने के समय को थोड़ा पहले करने से स्वास्थ्य संबंधी फायदे हो सकते हैं। नाश्ता देरी से करने पर बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआइ) बढ़ जाता है। तय समय पर खाने से बॉडी क्लॉक में गड़बड़ी का सामना कर रहे लोगों को मदद मिल सकती है। सही आहार, ज्यादा पानी और नींद का विशेष ध्यान दें।  

छोटी पर बड़ी बातें

  • व्यायाम के परिधान सूती और आरामदायी हों। एक्सरसाइज करते वक्त पसीना पोंछने के लिए पास में नैपकिन रखें।
  • सही नाप के शूज का इस्तेमाल करें। मोजे भी सूती के हों।

समय का चयन 

सुबह के समय व्यायाम के फायदे

  • सुबह के समय कसरत जाने के लिए तैयार होने के लिए बहुत सोचने की जरूरत नहीं होती। वहीं शाम के समय ऑफिस से आने के बाद कपड़े बदलने पड़ते हैं, जिस कारण जिम जाने में कई बार आलस आ जाती है। 
  • जल्दी सोना और सुबह जल्दी जागना बेहतर सेहत का मूल मंत्र है। 
  • भूख बढ़ाने में सहायक। 
  • नींद को बेहतर बनाने में मदद। 

शाम के वक्त के लाभ

  • एनर्जी को बचाती है। 
  • तनाव को दूर करे। 
  • रक्त परिसंचरण दुरुस्त। 

आराम भी जरूरी 

व्यायाम करने से शरीर तरोताजा रहता है पर इसकी अधिकता के भी अपने ही नुकसान हैं। अधिकता में किया व्यायाम मानसिक स्वास्थ्य बिगाडऩे के साथ शरीर को थका देता है। मांसपेशियों में खिंचाव आ सकता है। दर्द की शिकायत भी हो सकती है। लिहाजा हफ्ते में छह दिन व्यायाम और एक दिन आराम का नियम सही रहता है।  

एक्सरसाइज के फायदे अनेक 

बौद्धिक स्वास्थ्य : 30-40 मिनट की एक्सरसाइज बौद्धिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। मूड ठीक होता है। नई तंत्रिका कोशिकाओं का भी निर्माण होता है। स्मरण शक्ति की बेहतर होती है। 

बढ़ता आत्मविश्वास : व्यायाम से तनाव दूर होता है। आत्मविश्वास भी बढ़ता है। 

हृदय रहता स्वस्थ : नियमित व्यायाम के रूप में किया गया शारीरिक श्रम हृदय को स्वस्थ रखता है। 

मधुमेह का खतरा कम : रोजना की एक्सरसाइज से शरीर में शर्करा की मात्रा नियंत्रित रहती है। मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। 

ब्लड प्रेशर सामान्य : व्यायाम ऑक्सीजन का प्रवाह बेहतर करता है। इससे रक्त वाहिकाएं शिथिल होती हैं और ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है। 

मांसपेशियां मजबूत : मांसपेशियों में मजबूती आती है। वृद्धावस्था में भी हाथ-पैरों में ताकत बनी रहेगी और चलने फिरने में दिक्कत नहीं होगी। हड्डी बनने की प्रक्रिया भी बेहतर होती है। 

पीठ का दर्द कम : बैठने के गलत तरीके आदि के कारण पीठ में दर्द की शिकायत रहती है। व्यायाम और खिंचाव के जरिए इससे निजात पा सकते हैं। 

व्यायाम के कुछ आसान तरीके 

  • मोटापा कम करने की एक्सरसाइज की शुरुआत सीढिय़ों से कर सकते हैं। 10 से 15 मिनट सीढिय़ां चढऩे और उतरने की कसरत करें। 
  • जॉगिंग दो तरीके से कर सकते हैं। पहला एक जगह पर खड़े रहकर दूसरा एक जगह से दूसरी जगह जाकर।
  • 10 से 15 मिनट रस्सी कूद भी कर सकते हैं। 
  • घर पर बॉक्सिंग बैग लटकाकर इसके ऊपर हाथ पैरों से मारें। 
  • बेड पर लेटकर पैरों से साइकिल चलाएं। इससे पेट, जांघ और कमर की चर्बी कम करने में सहायता मिलती है। 
  • पालथी मारकर बैठना मांसपेशियों को मजबूत बनाने में सहायक है। 

क्या बतातें हैं जिम ट्रेनर ?

जिम ट्रेनर प्रियंका कपूर का कहना है कि शरीर को फिट रखने के लिए सिर्फ आधे घंटे का व्यायाम सही हो सकता है, पर अगर मस्कुलर बॉडी चाहिए तो 45 मिनट का सेशन आदर्श माना जाता है। 10 मिनट का वार्म अप और व्यायाम के बाद पांच मिनट की कूल डाउन स्ट्रेचिंग करनी चाहिए। इससे मसल्स जल्दी विकसित होते हैं। 

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप