लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बहुजन समाज पार्टी में बसपा मुखिया मायावती के भाई तथा भतीजे को अहम पद मिलने पर निशाना साधा है। लखनऊ में आज भाजपा पिछड़ा वर्ग के सम्मान समारोह में केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सपा-बसपा और कांग्रेस में तय है कि जो भी उनके परिवार का सदस्य होगा वहीं भविष्य में उस पार्टी का मुखिया बनेगा।

लखनऊ में विश्वेसरैया हॉल में भाजपा पिछड़ा वर्ग के सम्मेलन में मुख्य अतिथि केशव प्रसाद मौर्य ने नवनिर्वाचित सांसदों का सम्मान किया। समारोह में केंद्र और प्रदेश सरकार के मंत्रियों समेत कई प्रमुख लोग मौजूद थे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह तो तय है कि सपा-बसपा और कांग्रेस में जो भी उनके परिवार का सदस्य होगा वहीं भविष्य में उस पार्टी का मुखिया बनेगा। इसी कारण आज सपा-बसपा और कांग्रेस को जनता ने नकारकर भाजपा को अपना लिया है।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अब हमको विधानसभा उप चुनाव में 60 प्रतिशत मत हर बूथ पर हासिल करना है। सपा-बसपा जब मिलकर भी कुछ न कर सके तो अब अलग होकर क्या कर पायेंगे। सपा-बसपा और कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर देना है।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि यूपी की जनता ने सपा-बसपा गठबंधन को पूरी तरह नकार दिया है। अब आने वाले 50 साल तक इनका यूपी में कोई भविष्य नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग के समर्थन के कारण ही भाजपा को लोकसभा चुनाव 2019 में केंद्र में पूर्ण बहुमत मिला।

कांग्रेस, सपा व बसपा ने पिछड़े वर्ग को कभी सम्मान नहीं दिया बल्कि उनका शोषण किया। जो भी सम्मान देगा पिछड़ा वर्ग उसके लिए अपनी जान भी दे देगा। उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग ने जिस तरह 2014, 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा का साथ दिया इसी तरह उपचुनाव में भी भाजपा का साथ देगा।

यादव समाज के नेता नहीं रहे अखिलेश यादव

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पूरे यादव समाज के नेता नहीं हैं। वह उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में यादव समाज के नेता बनकर रह गए हैं। केशव ने कहा कि अखिलेश यादव एक खास क्षेत्र में बिरादरी के नेता रह गए हैं और मायावती भी परिवारवाद में उलझ गयी हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा में परिवारवाद नहीं हैं। हमारे यहां बूथ अध्यक्ष और जिलाध्यक्ष पार्टी का प्रदेश और राष्ट्रीय अध्यक्ष बन सकता है।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021