लखनऊ, जेएनएन। डालीगंज चौराहे के पास मेवा बेच रहे कश्मीरियों की बुधवार को कुछ लोगों ने लाठी-डंडों से पिटाई कर दी। पुलिस ने पीड़ित की तहरीर पर अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पुलिस ने देर रात एक आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का भी कोई असर नहीं हुआ। गौर हो कि पीएम मोदी ने हाल ही में कश्मीरियों से हिंसा का मामला सामने आने के बाद कहा था कि कश्मीरियों से नहीं बल्कि आतंकियों से लड़ाई है, इसीलिए कश्मीरियों के साथ किसी तरह का बुरा बर्ताव न हो। 

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी लखनऊ में मेवा बेचने वाले कश्मीरियों की पिटाई की निंदा की है।

इंस्पेक्टर हसनगंज धीरज शुक्ला के मुताबिक डालीगंज पुल के पास बुधवार दोपहर तीन कश्मीरी मेवा बेच रहे थे। आरोप है कि इस बीच कुर्ता पैजामा पहने पहुंचे कुछ युवकों ने उनसे कहा कि कश्मीर के हो यहां कैसे मेवा बेच रहे हो। इस पर जम्मू कुलगाम के चिलरनूराबाद निवासी मो. अफजल नायक पुत्र अब्दुल सत्तार ने कहा कि वह करीब आठ-10 साल से यहां पर आकर मेवा बेचता है। उसके साथ अन्य साथी भी आते हैं।

इसके बाद आरोपितों ने कश्‍म‍ीरियों को डंडों से पीटना शुरू कर दिया। शोर सुनकर आस पड़ोस के लोग दौड़े और हमलावरों का विरोध किया। लोगों ने मामले की जानकारी पुलिस कंट्रोल रूम को दी। इस बीच हमलावर युवकों ने कश्मीरियों से पहचान पत्र मांगा। पहचानपत्र दिखाने पर कश्मीरी चले गए।

पुलिस मो. अफजल को थाने लेकर पहुंची। हमले से कश्मीरी दहशत में हैं। पुलिस ने पीडि़त मो. अफजल से पूछताछ की। रात में अफजल की तहरीर पर अज्ञात हमलावरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई थी। 

यह गिरफ्तार

पुलिस ने हमले के मामले में विश्व हिंदू दल के प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु अवस्थी, नगर अध्यक्ष बजरंग सोनकर, अनिरुद्ध और अमर को सुबह गिरफ्तार किया।

आरोपितों की रिहाई को लेकर थाने के बाहर हंगामा

कश्मीरियों पर हमले के मामले में गिरफ्तार आरोपितों की रिहाई के लिए हसनगंज थाने में विश्व हिंदू दल के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने जमकर हंगामा और विरोध प्रदर्शन किया।  इसके बाद पुलिस ने समझा बुझाकर हंगामा शांत किया। जिसके बाद दल के कार्यकर्ता वापस लौटे। 

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप