लखनऊ, [नीरज मिश्र]। बाराबंकी बस हादसे में 18 लोगों की जान गए अभी महज चार दिन भी नहीं बीता है कि परिवहन मुख्यालय से चंद कदमों की दूरी पर स्थित शनि मंदिर के सामने से ही खुलेआम डग्गामारी जारी है। गौर करने की बात यह है कि उप परिवहन आयुक्त, अपर परिवहन आयुक्त और परिवहन आयुक्त जैसे अधिकारी यहां बैठते हैं। रोज इसी मार्ग से उनका आवागमन होता है। वह भी तब, जब शीर्ष के अधिकारियों ने कड़ी कार्रवाई और गाडिय़ां जब्त करने के निर्देश दे रखे हों। पर डग्गामारों का हौसला पस्त नहीं हुआ है। ऐसे में अनधिकृत संचालन पर नकेल न होना सीधे बड़े जिम्मेदारों पर सवाल खड़ा करता है? पेश है नीरज मिश्र की रिपोर्ट...।

स्थान शनि मंदिर: दोपहर 12:15 मिनट का वक्त। बस संख्या यूपी45 एटी-2826 शनि मंदिर पर आती है। कुछ देर बाद सामने बने होटल और दूर खड़े लोगों को इशारे से बुलाया जाता है। लोग कम किराए की लालच में अपनी जान जोखिम में डालकर सवार हो जाते हैं। एक-एक कर करीब घंटेभर में सवारियां भरकर बस गंतव्य की ओर रवाना हो जाती है।

शनि मंदिर के पास ही राजधानी के एक होटल के सामने दूसरी बस खड़ी थी। इसमें नंबर तक सलीके से नहीं लिखे थे। हालांकि इसमें कोई सवारी नहीं थी। लेकिन चालक अपनी बारी की प्रतीक्षा करता नजर आया।

जैसे ही जुटती है भीड़ पहुंच जाती है बस: अनधिकृत संचालन करने वालों ने यहां पर लोगों की डयूटी लगा रखी है। जैसे ही पर्याप्त सवारियां होने की सूचना मिलती है। कर्मचारी फोन से संपर्क कर तत्काल गाड़ी बुलवा लेता है और कुछ देर में ही बस सवारियां लेकर रफूचक्कर हो जाती हैं। कम किराया बता जल्दी पहुंचाने की बात कहकर यात्रियों की जान जोखिम में डालने वाली डग्गामार बसों का खुलेआम संचालन रविवार को भी धड़ल्ले से होते दिखा।

यहां खुलेआम होती डग्गामारी: 

  • अवध चौराहे से पारा तक कई किमीं लंबे मार्ग पर छोटे-छोट पॉकेट बना की जाती है डग्गामारी
  • मोहान रोड से अवध बस स्टैंड
  • होटल पिकैडली और आरटीओ ट्रांसपोर्टनगर के पास बनी पार्किंग से
  • शनिदेव मंदिर, डालीगंज पुल, सीतापुर रोड मडियांव, दुबग्गा, कोनेश्वर आदि।
  • कमता चौराहे से शहीद पथ अहिमामऊ व कानपुर रोड।
  • -शहीद पथ की सॢवस लेन से लंबी दूरी की बसें।

लखनऊ से दिल्ली, गोरखपुर, हरिद्वार, बिहार, पंजाब, कोटा, गुडगांव, आगरा, मथुरा के लिए सीटों की बुकिंग करने के बाद यात्रियों को मैसेज भेजकर उन्हें बस पकडऩे का नियत स्थान बताया जाता है।

उप परिवहन आयुक्त लखनऊ जोन, मुख्यालय निर्मल प्रसाद ने कहा कि बीते चौबीस घंटों के दौरान अंतरराज्यीय और अंतरजनपदीय संचालन करती 166 बसों पर कार्रवाई की गई है। 12 बसें बंद की गई हैं। साथ ही शहर के उन सभी प्रमुख मार्गों की सूची मांगी गई है जहां से डग्गामारी की जा रही है। सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Rafiya Naz