लखनऊ, राज्य ब्यूरो। अयोध्या का विकास योगी सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल है। विधानसभा चुनाव में सरकार धर्मनगरी के बदलाव की तस्वीर लेकर जाना चाहती है। इसके लिए विकास कार्यों को रफ्तार देने का लगातार प्रयास किया जा रहा है। वहां चल रही परियोजनाओं की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव आरके तिवारी ने कहा अयोध्या के मास्टर प्लान के पहले चरण को जल्द अंतिम रूप दे दिया जाए। वहीं, अधिकारियों ने दावा कि 15 दिसंबर तक 79 परियोजनाएं पूरी हो जाएंगी। 

अयोध्या के विकास के लिए गठित हाईपावर कमेटी की बैठक सोमवार को लोकभवन में मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई। उन्होंने कहा कि अयोध्या मास्टर प्लान पहले चरण को जल्द से जल्द अंतिम रूप दिया जाए। मंडलायुक्त और जिलाधिकारी कार्यदायी संस्थाओं के साथ नियमित बैठकें कर परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा करें। सभी संबंधित विभाग हर पंद्रह दिन में जानकारी दें। सभी काम तय समय में पूरे होने चाहिए। विकास कार्यों का प्रस्तुतीकरण करते हुए प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार ने बताया कि अयोध्या के विकास के लिए 20,107 करोड़ रुपये की 124 परियोजनाओं पर काम चल रहा है, जिनमें से 79 परियोजनाएं 15 दिसंबर, 2021 तक पूरी हो जाएंगी।

उन्होंने आवास विकास परिषद, अयोध्या विकास प्राधिकरण, नगर निगम, लोक निर्माण विभाग, पर्यटन विभाग, संस्कृति विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण, परिवहन निगम सहित सभी विभागों के कार्यों का ब्योरा भी रखा। बैठक में अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव गृह एवं धर्मार्थ कार्य अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव एमएसएमई नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव राजस्व, ग्राम्य विकास व पंचायती राज मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव औद्योगिक विकास अरविंद कुमार, अपर मुख्य सचिव कार्यक्रम क्रियान्वयन सुरेश चन्द्रा सहित सभी संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। बता दें कि योगी सरकार रामनगरी के विकास पर लगातार निगरानी कर रही है, जिससे समय पर कार्य पूरे हो सकें। 

Edited By: Vikas Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट