लखनऊ, जेएनएन। CAA Protest in UP Live Updates : नागरिकता संशोधन कानून को लेकर शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद के यूपी के कई जिलों में माहौल पर फिर खराब हो गया। पुलिस की तमाम सक्रियता के बाद भी एक दर्जन से अधिक जिले भयंकर हिंसा की चपेट में हैं। हिंसा में 11 की मौत हुई है। इनमें मेरठ में तीन, बिजनौर व फीरोजाबाद में दो-दो, वाराणसी, कानपुर, मुजफ्फरनगर व सम्भल में एक-एक जान गई है। करीब 15 जिलों में हिंसा की घटनाएं हुई हैं। उपद्रव ग्रस्त जिलें में इंटरनेट सेवा रोक दी गई है।

मेरठ में तीन उप्रद्रवी के मरने की खबर आ रही है। एसएसपी ने छह लोगों को गोली लगने से घायल होने की बात कही है। ब‍िजनौर में दो के मरने की बात सामने आई है। दोनों के पर‍िजन जरूर पुष्टि कर रहे हैं। फिरोजाबाद में एक उपद्रवी के मारे जाने की सूचना है। फिरोजाबाद और मेरठ में एक-एक पुलिसकर्मी के गोली लगने से घायल होने की भी जानकारी मिली है। वहीं कानपुर में बवाल में घायल 12 लोग एलएलआर अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं। इनमें तीन के पेट और एक के सीने में गोली लगी है। वहीं इंटरनेट सेवाएं बाधिक होने के कारण यूपीटीईटी स्थगित कर दिया गया है।

फिरोजाबाद के साथ ही गोरखपुर, मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, बहराइच, बलरामपुर, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, गोरखपुर, कानपुर, उन्नाव, भदोही तथा गोंडा में भीड़ ने माहौल खराब किया है। नमाज के बाद इन लोगों ने पुलिस पर पथराव किया। इसके बाद पुलिस ने इन लोगों पर नियंत्रण करने के लिए लाठीचार्ज किया। फिरोजाबाद में पुलिस चौकी को आग के हवाले करने के बाद भीड़ ने हाईवे पर कब्जा कर लिया। इस दौरान पुलिस पर काफी फायरिंग भी की गई है। 

यूपीटीईटी-2019 स्थगित

राज्य सरकार ने 22 दिसंबर को होने वाली उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) 2019 को स्थगित करने का फैसला किया है। परीक्षा की नई तारीख जल्द घोषित की जाएगी। यह परीक्षा सभी मंडल मुख्यालयों पर आयोजित की जानी थी। प्रदेश में इंटरनेट सेवाएं बंद होने के कारण यूपीटीईटी के अभ्यर्थी परीक्षा प्रवेश पत्र डाउनलोड नहीं कर पा रहे हैं। अभ्यर्थियों की इस कठिनाई को देखते हुए शासन ने शुक्रवार शाम परीक्षा को स्थगित करने का फैसला किया है। अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा रेणुका कुमार ने बताया कि इंटरनेट सेवाएं बहाल होते ही परीक्षा की नई तिथि घोषित की जाएगी।

फीरोजाबाद में बवाल, फायरिंग, एक की मौत

सीएए के विरोध की आग में शुक्रवार को फीरोजाबाद भी झुलस गया। जामा मस्जिद में नमाज अदा होने के बाद शहर में जमकर उपद्रव हुआ। पुलिस और उपद्रवियों के बीच कई बार फायरिंग और पथराव हुआ। बेखौफ उपद्रवियों ने नालबंद पुलिस चौकी फूंक डाली। नारखी इंस्पेक्टर ब्रजेश सिंह के साथ मारपीट कर उनकी पिस्टल लूट ली। दोपहर दो बजे से देर शाम आठ बजे तक चले उपद्रव में चार दर्जन से ज्यादा पुलिसकर्मी व उपद्रवी घायल हुए हैैं। भीड़ में शामिल एक युवक की गोली लगने से मौत हो गई। शहर की जामा मस्जिद में जुमे की नमाज अदा करने के बाद दोपहर दो बजे मुस्लिम समुदाय के लोग जुलूस के रूप में नालबंद चौराहे पर पहुंचे।

वहां बवाल शुरू हो गया। उग्र भीड़ ने कानून अपने हाथ में ले वहां तैनात पुलिस फोर्स पर पथराव कर दिया। नालबंद चौकी के बाहर खड़े आधा दर्जन वाहनों में आग लगा दी। पुलिस ने अश्रु गैस के गोले दागकर भीड़ को तितर-बितर करने का प्रयास किया। बवाल में 'दैनिक जागरण' के छायाकार की भी बाइक को फूंक दिया। हालात काबू करने के लिए पुलिस को कई बार हवाई फायरिंग भी करनी पड़ी। भीड़ की तरफ से भी रुक-रुक कर फायरिंग होती रही। हाईवे से गुजरने वाले पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की। हाईवे पर भी दोनों ओर से कई बार फायरिंग की गई। फायरिंग में भीड़ की ओर से मोहम्मदगंज मोहल्ले के नवीजान (27) की गोली लगने से मौत हो गई। 

 

कानपुर में भी बवाल, कई लोगों को गोली लगी

कानपुर में बाबूपुरवा थाने के बेगमपुरवा, अजीतगंज कॉलोनी में बेकाबू भीड़ ने पुलिस पिकेट पर हमला कर उनकी पांच बाइकें फूंक दी। पथराव में दो दारोगा और एक सिपाही घायल हो गए। इस बवाल में घायल 12 लोग एलएलआर अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं। इनमें तीन के पेट और एक के सीने में गोली लगी है। पुलिस ने एक दर्जन से अधिक उपद्रवियों को गिरफ्तार भी किया है। दूसरी ओर यतीमखाना में हजारों की संख्या में भीड़ ने निषेधाज्ञा तोड़ते हुए जुलूस निकाला। जुलूस के दौरान भीड़ ने यतीमखाना पर पुलिस पर पथराव किया। फंसी पुलिस अश्रु गैस के गोले दागकर किसी तरह वहां से निकली। भीड़ जुलूस की शक्ल में परेड पहुंची और पथराव करते हुए ऑटो, जेना स्माल फाइनेंस बैंक के बाहर और एक चप्पल शोरूम में तोड़फोड़ किया। पांच वाहन तोड़ दिए। यहां डीएम-एसएसपी भी फंसे। भीड़ ने नरोना चौराहे पर पथराव किया। बवाल को देखते हुए कानपुर के स्कूल कॉलेज दो दिन के लिए बंद कर दिए गए हैं। एडीजी प्रेमप्रकाश ने उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने फायरिंग नहीं की है। बाबूपुरवा में आत्मरक्षार्थ पैलट गन का प्रयोग किया गया, जिन्हें गोली लगी है, वह उपद्रवियों की ओर से चली गोली से घायल हुए हैं।

मेरठ में पुलिस और प्रदर्शनकारियों में आमने-सामने फायरिंग
मेरठ में कोतवाली क्षेत्र में तोड़फोड़ कर रही भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। खत्‍ता रोड में पुलिस की दो गाड़ियों को आग लगा दी। उपद्रवियों ने इस्‍लामाबाद पुलिस चौकी फूंक दी है। पुलिस और प्रदर्शनकारियों में आमने-सामने फायरिंग हो रही है। मेरठ के तारापुरी क्षेत्र में उपद्रव‍ियों ने पुलिस के 30 रिक्रूट को बंधक बनाया। एसपी देहात ने भारी फोर्स के साथ सभी को मुक्‍त कराया। तारापुरी में आरएएफ के एक सब इंस्‍पेक्‍टर और एक जवान को गोली लगी है। एक बारगी अधिकारियों को उल्‍टे पांव लौटना पड़ा। हालात बेहद तनावपूर्ण है। शहर के अन्‍य हिस्‍सों में भी प्रदर्शन जारी है। मेरठ में एसएसपी अजय साहनी ने बताया क‍ि उपद्रवी की गोली से ही एक उपद्रवी गंभीर रूप से घायल हुआ है और उसे उपद्रवी ही उठाकर ले गए हैं। अब तक तीन उपद्रव‍ियों और छह पुलिसकि‍र्मियों के घायल होने की बात एसएसपी बता रहे हैं। पुलिस क्षेत्राधिकारी शहर और नायब शहर काजी से शांति की अपील करवा रहे हैं।

बहराइच में पथराव

बहराइच में शहर के घंटाघर इलाके में जुमे की नमाज के बाद लोग नागरिकता कानून के विरोध में सड़क पर उतर आए। पुलिस ने उन्हें रोकना चाहा तो पथराव शुरू कर दिया। पुलिस ने भीड़ को काबू में करने के लिए लाठीचार्ज किया। छह बार आंसू गैस के गोले दागे गए हैं। पुलिस ने जब उन्हे रोकने की कोशिश की तो मौजूद भीड़ में कुछ उपद्रवियों ने पीछे से पथराव करना शुरू कर दिया। इसको देखते हुए पहले तो पुलिस ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन जब प्रदर्शनकारी उग्र हो गए तो पुलिस ने लाठियां भांजनी शुरू कर दी। इस पर भी जब प्रदर्शनकारी नहीं माने तो आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। 

गोरखपुर में भीड़ उग्र

गोरखपुर में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में कोतवाली इलाके में नखास चौराहे पर नमाज के बाद भीड़ ने उग्र प्रदर्शन कर दिया। रोकने पर पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। पूरा इलाका पुलिस छावनी में तब्दील है। जुमे की नमाज के बाद जामा मस्जिद से कुछ लोग नारेबाजी करते हुए निकले थे। पुलिस उन्हें रोकने की कोशिश कर रही थी। इसी बीच नखास चौराहे पर भीड़ एकत्र हो गई और सरकार विरोधी नारे लगाना शुरू कर दी।

समझाने की कोशिश करने पर पुलिस वालों से उलझने लगे। सख्ती से पेश आने पर पथराव शुरू कर दिया। स्थिति पर काबू पाने के लिए पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी। स्थिति अभी भी बेहद तनाव पूर्ण बनी हुई है। नाकेबंदी कर पुलिस संवेदनशील इलाकों मे कांबिंग कर रही है। इससे पहले मदीना मस्जिद के पास भीड़ ने खुद को नागरिक सुरक्षा कोर का सदस्य बताने वाले सत्य प्रकाश सिंह व विवेक को पीट दिया। दोनों लोगो के पास पहचान पत्र नहीं था। भीड़ का आरोप है कि दोनों लोग बाहरी हैं और एक वर्ग को बदनाम करने के लिए दंगा भड़काने की साजिश के तहत काम कर रहे हैं।

कानपुर और उन्नाव में पुलिस पर पथराव

कानपुर और उन्नाव में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। उन्हें रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। उन्नाव में जामा मस्जिद से जुलूस की शक्ल में लोग सड़कों पर उतरे और सरकार विरोधी नारे लगाए। पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो तीखी झड़प हुई। पुलिस ने खदेड़कर भीड़ को तितर-बितर किया है। शहर में दुकानें बंद कराई जा रही हैं। संवेदनशील इलाकों में आरएएफ, पीएसी ने मार्च किया है।

भदोही में नगर कोतवाली इलाके में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मुस्लिमों ने जुमे की नमाज के बाद जुलूस निकाला। इस दौरान पुलिस पर प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया। पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। कानपुर में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच भिड़ंत हो गई। कानपुर में नमाज पढऩे के बाद जुलूस निकला रहे प्रदर्शनकारियों को जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो भीड़ ने पत्थरबाजी की। प्रदर्शनकारियों की योजना कानपुर के पास मौजूद यतीमखाने में जलसा करने की थी, मगर पुलिस ने वहां पहुंचने से पहले ही रोकने की कोशिश की, जिसके बाद भगदड़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई।

प्रदर्शनकारियों ने मरी कंपनी पुल को कब्जे में ले लिया, जिसे पुलिस ने खाली कराने की कोशिश की, जिसके बाद दोनों में संघर्ष बढ़ गया। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की चार बाइकें भी फूंक दी। कानपुर के पास ही परेड चौक पर नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शन किया। डीएम विजय विश्वास ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को समझाया बुझाया गया। हमने किसी पर भी लाठीचार्ज नहीं किया। 

बुलंदशहर में पुलिस पर फायरिंग 

बुलंदशहर के ऊपरकोट मोहल्‍ले में दस हजार की भीड़ ने तकरीर के बाद नारेबाजी और प्रदर्शन शुरू कर दी। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश की तो भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ साथ फायरिंग भी कर दी। जिसके बाद हालात और बिगड़ गए और पुलिस को भी फायरिंग करनी पड़ी। अभी किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। उग्र हुई भीड़ ने पुलिस की गाड़ियों पर पथराव कर दिया और कुछ गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। यहां पर हालात को नियंत्रित करने की कोशिश की जा रही है। 

शिकोहाबाद में निकाला जुलूस, बाजार बंद

फिरोजाबाद जिले के शिकोहाबाद शहर में भी  नमाज अदा करने के बाद मुसलमानों ने सड़क पर काली पट्टी बांधकर जुलूस निकाला। पुलिस फोर्स भी उनके साथ रहा। जुलूस में नारेबाजी होने से कुछ देर के लिए बाजार भी बंद हो गया। हालांकि करीब आधा घंटे बाद मुस्लिम समुदाय के लोग अपने घरों को चले गए। 

सीतापुर के लहरपुर में नमाज के बाद बवाल किया गया। यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पोस्टर फाड़े गए। मुस्लिम समुदाय के हजारों लोग सड़कों पर उतरे थे। पुलिस बल ने लाठियां फटकार कर उन्हें मौके से खदेड़ा है। बिजनौर के नटहौर में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन हुए। यहां अचानक भीड़ बेकाबू हो गई। पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया गया। दो पुलिसकर्मियों समेत 12 लोग घायल हुए हैं। पुलिस ने लाठीचार्ज कर लोगों को तितर-बितर किया है। 

मुजफ्फरनगर के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के कच्ची सड़क पर नागरिकता संशोधन बिल का विरोध कर रहे लोगों की भीड़ सड़क पर उतरी। पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो वह पुलिस से भिड़ गए। प्रदर्शनकारिरयों ने गाडिय़ों में तोड़फोड़ हुई। पुलिस ने लाठीचार्ज करके लोगों को शांत किया। हाथरस के सिकंदराराऊ कोतवाली इलाके में जामा मस्जिद के पास प्रदर्शनकारियों ने बवाल किया है। पथराव में चार पुलिसकर्मी व दो स्थानीय घायल हुए हैं। बुलंदशहर में भी बवाल हुआ। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया।

मुरादाबाद में जामा मस्जिद में नमाज के बाद करीब हजार लोग जीआईसी चौक पर विरोध में उतरे। यहां पर आरएएफ, पीएसी व पुलिस लगा दी गई है। नागरिकता कानून के विरोध में काले गुब्बारे उड़ाए गए और सरकार विरोधी नारे लगे। लोग धरने पर बैठ गए हैं। 

मुजफ्फरनगर व बिजनौर में पथराव-लाठीचार्ज

मुजफफरनगर में ह‍िंसा के दौरान एसपी सिटी सतपाल अंतिल को भी पैर में गोली लगी थी। प्राइवेट डाक्‍टर से उपचार करा गोली निकाली गई। मुजफ्फरनगर शहर के मीनाक्षी चौक पर भीड़ ने अचानक पत्‍थरबाजी कर दी, जिसमें एक सिपाही सामीर अली घायल हो गए हैं। पुलिस फोर्स कम होने के कारण यहां पर भीड़ नियंत्रण से बाहर है। मौके पर सिटी मजिस्‍ट्रेट पुलिस बल के साथ मौजूद हैं। वहीं शहर के कच्‍ची सड़क पर मदीना चौक पर भीड़ को रोकने की कोशिश करने पर भीड़ ने वाहनों में तोड़फोड़ कर दी। यहां पर भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। बिजनौर के नहटौर, धामपुर, नगीना में पथराव की सूचना है। इन तीनों इलाकों में अनियंत्रित भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया वहीं पुलिस को भी भीड़ पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा, जबकि बिजनौर में जामा मस्जिद के बाहर हजारों की भीड़ और पुलिस बल आमने सामने है।

बिजनौर में जामा मस्जिद के बाहर एकत्रित भीड़ साढ़े तीन बजे के करीब शहर की ओर चल पड़ी। सिविल लाइन जजी के पास उग्र भीड़ ने अचानक वाहनों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। फायिरंग भी हुई। पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। सहारनपुर में जुमे की नमाज के बाद शहर की सभी मस्जिदों से हजारों की संख्‍या में भीड़ शहर घंटाघर पहुंची। भीड़ ने पुलिस द्वारा लगाए गए सभी बेरीकेडिंग भी गिरा दिए, देवबंद में भी हजारों प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए थे।

सहारनपुर में सड़कों पर उतरे लोग

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में सहारनपुर में जुमे की नमाज के बाद शहर की सभी मस्जिदों से हजारों की संख्या में भीड़ शहर घंटाघर की बढ़ रही है। भीड़ ने पुलिस के सभी बैरीकेडिंग भी गिरा दिए हैं। इस दौरान भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। भीड़ प्रदर्शन करते हुए नारे लगा रही है। नमाज पढ़कर लौट रहे लोगों ने मोदी सरकार के नागरिकता संशोधन कानून को पूरी तरह से गलत बताया। वरिष्ठ अफसर भी मौके पर ही मौजूद हैं। किसी प्रकार की हिंसा की कोई सूचना नहीं है।

दूसरी ओर देवबंद में भी हजारों लोग बीच बाजार आ गए हैं। यहां पर लोग मोदी सरकार के विरोध में नारेबाजी कर रहे हैं। वहीं मेरठ में भी शाही मस्जिद में तकरीर के दौरान शहर काजी ने नागरिकता संशोधन कानून को गलत करार दिया। यहां पर जुमे की नमाज के दौरान बड़ी संख्या में लोग काली पट्टी बांधकर आए थे। शहर काजी ने तकरीर के दौरान सीएए का शांतिपूर्ण ढंग से विरोध जताने की अपील की है।

लखनऊ में टीला वाली मस्जिद में जुमे की नमाज अदा की गई। यहां पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शांतिपूर्ण नमाज अदा की गई। नमाज पढऩे के बाद नमाजी घर गए। हुसैनाबाद इलाके में भी शांति व्यवस्था बहाल है। यहां के खदरा में में भी दुकानें खुली हैं। पुराना लखनऊ में भारी पुलिस फोर्स तैनात है, यहां पर माहौल में शांति है।लखनऊ में गुरुवार को हिंसा के बाद आज पुराने लखनऊ में आरएएफ के साथ सीआरपीएफ को भी तैनात किया गया। पुराने लखनऊ में बड़ी संख्या में फोर्स तैनात है। यहां आरएएफ तथा सीआरपीएफ की कई बटालियन तैनात हैं। पुलिस के साथ पीएसी की कई बटालियन पुराने लखनऊ पहुंची हैं। लखनऊ हिंसा के बाद हाई अलर्ट पर है। लखनऊ में डीएम तथा एसएसपी सड़क पर उतरे हैं। यह लोगों से शांत रहने की अपील कर रहे हैं। इसके साथ ही धर्मगुरुओं से भी शांति की अपील की गई है। यहां पर प्रदर्शन को लेकर लोगों ने दुकानें की बंद है।

उन्नाव में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर पुलिस अलर्ट पर है। डीएम देवेंद्र कुमार पाण्डेय के साथ एसपी विक्रांत वीर के निर्देश पर जिले में कानून-व्यवस्था के मद्देनजर इंटरनेट सेवा बंद है। शहर के संवेदनशील क्षेत्रों में ड्रोन कैमरों से नजर है। यहां पर आज जुमे की नमाज को लेकर पुलिस तथा जिला प्रशासन अलर्ट पर है। कासगंज में भी डीएम तथा एसपी ने शहर में फ्लैग मार्च किया। डीएम ने आम लोगों को समझाया तथा उनसे शांति बनाए रखने की अपील की।

प्रयागराज में प्रतिबंध के बावजूद पुराने शहर के चौक, कोतवाली, शाहगंज, अटाला, चकिया, नूरुल्लाह रोड, रानी मंडी, जानेसनगंज और सिविल लाइंस में सुभाष चौराहे पर लोगों ने नारेबाजी करते हुए विरोध जताया। दोपहर बाद स्थिति बिगड़ने की आशंका पर डीएम भानुचंद्र गोस्वामी के निर्देश पर कुछ देर के लिए सिविल लाइंस बस अड्डे से बसों को हटवाकर खाली करा दिया गया।

अलग-अलग स्थानों से 150 लोगों को हिरासत में लिया गया। प्रदर्शनकारियों के खिलाफ छह थानों में मुकदमा लिखने की तैयारी है। बवाल की आशंका के मद्देनजर मोबाइल इंटरनेट सेवा दिन भर से बंद है। प्रतापगढ़ में जुमा के बाद भीड़ सड़क पर आई तो पुलिस ने डंडा पटका। इससे भगदड़ हो गई, जिससे दुकानें बंद कर दी गईं। कौशांबी में पुलिस की विशेष सतर्कता से कहीं अप्रिय स्थिति नहीं बनी।

यह भी पढ़ें :-

CAA UP Protest News : प्रदेश में 31 जनवरी तक धारा 144 लागू, लखनऊ समेत 42 जिलों में इंटरनेट बंद

Edited By: Dharmendra Pandey