सुलतानपुर, संवादसूत्र। संजय प्रसाद जी, योगेन्द्र प्रताप सिंह के प्रमाणपत्र पर रिपोर्ट क्यों नहीं लगाई...दो कौड़ी के दरोगल्ली...अभी आकर जूते से मारूंगा। किस बात का पैसा लिए बे...अभी आकर ठीक करता हूं। शनिवार को वायरल हुई आडियो क्लिप में इस लहजे में बातचीत व धमकी कोतवाली में तैनात वरिष्ठ उप निरीक्षक संजय प्रसाद को दी गई। धमकी देने का आरोप भाजपा विधायक राजेश गौतम पर लगा है।

लक्ष्मणपुर निवासी योगेन्द्र प्रताप सिंह ठेकेदारी का पंजीयन करा रहे हैं। इसमें लगने वाले चरित्र प्रमाण पत्र की फाइल में रिपोर्ट लगाने का जिम्मा कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक संजय प्रसाद को मिला। शनिवार की सुबह इसी मामले की पैरवी के लिए विधायक ने उक्त एसएसआइ को फोन किया।

आवेदक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज होने की बात कहने पर वे आग बबूला हो गए। इसके बाद धमकी और अभद्र शब्दों का प्रयोग शुरू कर दिया। साथ ही डेढ़ हजार रुपये घूस लेने का आरोप भी लगाया। प्रभारी निरीक्षक उमेश्वर प्रताप यादव ने बताया कि मामले की जानकारी उच्च अधिकारियों को दे दी गई है। अग्रिम निर्णय वही लेंगे।

भ्रष्टाचार में लिप्त वरिष्ठ उप निरीक्षक : वरिष्ठ उप निरीक्षक संजय प्रसाद भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। उक्त चरित्र प्रमाण में सत्यापन रिपोर्ट लगाने के एवज में डेढ़ हजार रुपये आवेदक से लेने के बाद और रुपयों की मांग कर रहे थे। इसलिए फोन किया। किसी प्रकार की अभद्र भाषा का इस्तेमाल नहीं किया।  -राजेश गौतम, विधायक कादीपुर

विधायक दे रहे धमकी : 1990 में योगेन्द्र सिंह के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज है। इस कारण चरित्र प्रमाण पत्र पर रिपोर्ट नहीं लगाई जा सकती। यदि इन धाराओं में उन्हें न्यायालय से कोई राहत मिली है तो उसे प्रस्तुत करें, तभी रिपोर्ट लगाई जा सकती है। विधायक फोन पर धमकियां दे रहे हैं। रुपये लेने का फर्जी आरोप लगा रहे हैं।   - संजय प्रसाद, वरिष्ठ उप निरीक्षक

Edited By: Anurag Gupta