लखनऊ, जेएनएन। जरायम की दुनिया से राजनीतिक गलियारे में कदम रखने वाले बहुजन समाज पार्टी के विधायक मुख्तार अंसारी पर दो दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। फिलहाल पंजाब की जेल में बंद मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी उनसे आगे निकल गए हैं। बसपा के टिकट पर मऊ जिले के घोसी से 2017 का विधानसभा चुनाव लडऩे वाले अब्बास अंसारी एक लाइसेंस पर छह विदेशी असलहे लेकर चलते हैं।

बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी का यह निराला अंदाज अधिक दिन तक नहीं चल सका। एक ही शस्त्र लाइसेंस पर एक करोड़ से अधिक कीमत के पांच विदेशी असलहे रखने के मामले में पुलिस ने अब्बास अंसारी से खिलाफ लखनऊ के महानगर में मामला दर्ज किया है। फरार चल रहे अब्बास की तलाश जारी है। अब्बास की अंतिम लोकेशन पंजाब में मिली थी, जहां की जेल में मुख्तार अंसारी को बंद किया गया है।

अब्बास अंसारी के पास से बरामद असलहों में इटली से आयातित .12 बोर की डबल बैरल और सिंगल बैरल बेरेटा गन के साथ ही ऑस्ट्रिया की ग्लॉक-25 पिस्टल के बैरल भी मिले हैं। लखनऊ की इंडियन आर्म्स कॉर्प से खरीदी गई .300 बोर की मैगनम रायफल, दिल्ली के राजधानी ट्रेडर्स से खरीदी .12 बोर की डबल बैरल बेरेटा गन और मेरठ के शक्ति शस्त्रागार से यूएसए की .357 बोर की रगर जीपी 100 रिवाल्वर भी मिलीं। इनमें स्लोवेनिया से लाई गई एक रायफल जिसमें .223, .357, .300, .30, .30-60, .308 व .458 बोर के सात स्पेयर बैरल हैं। ऑस्ट्रिया की .380 ऑटो बोर की ग्लॉक-25 पिस्टल की एक स्लाइड बैरल, ऑस्ट्रिया की ही .40 बोर की ग्लॉक-23 जेन-4 की एक स्लाइड बैरल, .22 बोर की एक अन्य विदेशी पिस्टल का स्लाइड बैरल, ऑस्ट्रिया की .380 बोर की एक मैगजीन, ऑस्ट्रिया की .40 बोर की एक मैगजीन व ऑस्ट्रिया का ही एक लोडर भी पुलिस ने जब्त किया है। इटली और आस्ट्रिया की रिवाल्वर व बंदूक काफी ज्यादा मारक क्षमता वाली थी।

यह भी पढ़ें: बाहुबली MLA मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास के आवास पर छापा, छह असलहे-4431 कारतूस बरामद

अब्बास अंसारी के पास अवैध असलहा मिलने की भनक पर पुलिस ने कई जगह पर दबिश भी दी, लेकिन न मिलने पर लखनऊ के महानगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया। एक ही शस्त्र लाइसेंस पर पांच असलहे खरीदने का मुकदमा दर्ज हुआ था। इसके साथ ही फर्जी तरीके से आर्म्स लाइसेंस को दिल्ली ट्रांसफर कराने का भी मुकदमा दर्ज हुआ था

गाजीपुर के के मोहम्मदाबाद स्थित यूसुफपुर दर्जी टोला निवासी अब्बास अंसारी निशातगंज की पेपरमिल कालोनी की मेट्रो सिटी में रहता है। उसने मेट्रो सिटी के पते से वर्ष 2002 में डीबीबीएल का लाइसेंस बनवाया था। इसके बाद में शस्त्र लाइसेंस नई दिल्ली के बसंत कुंज के किशनगंज के पते पर स्थानांतरित करा लिया था। जांच में सामने आया था कि अब्बास के नाम से जारी शस्त्र लाइसेंस को बगैर जिला प्रशासन की अनुमति के दिल्ली स्थानांतरित कराया गया था।

अब्बास ने स्थानीय थाने महानगर पुलिस को इसकी कोई सूचना नहीं दी थी। उसने अपना शस्त्र लाइसेंस दिल्ली स्थानांतरित होने के बाद एक और खेल किया था। राष्ट्रीय स्तर का निशानेबाज होने का हवाला देकर उसी लाइसेंस पर चार और असलहे खरीद लिए थे।

लाइसेंस निरस्त कराने की तैयारी

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि अब्बास के शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति की जाएगी। दिल्ली पुलिस को जानकारी दी गई है। इसके साथ ही महानगर में दर्ज हुए मुकदमे के बारे में बता दिया गया है। इस मुकदमे में आईपीसी की तीन और धारायें बढ़ा दी गई है जिसके तहत अब्बास अंसारी को गिरफ्तार भी किया जायेगा। उसकी गिरफ्तारी के लिये टीम बनायी जायेगी।

अंतरराष्ट्रीय शूटर

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का बेटा अब्बास अंसारी शॉट गन शूटिंग का इंटरनेशनल खिलाड़ी है। दुनिया के टॉप टेन शूटरों में शुमार अब्बास न सिर्फ नेशनल चैंपियन रह चुका है कई अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में पदक भी जीता है। शूटिंग के राष्ट्रीय मुकाबले में अपनी पहचान बनाने वाले अब्बास अंसारी की गिरफ्तारी की कवायद भी तेज की गई है।

पिस्टल और रायफल की अनेकों नाल

छापेमारी में सिंगल और डबल बैरल की तीन बंदूकों के अलावा रायफल और रिवॉल्वर के संग दूसरी चौंकाने वाली सामग्री मिली। रायफल की एक नहीं, बल्कि आधा दर्जन नाल, पिस्टल की मैगजीनों के अलावा अलग-अलग बोर की नाल व मैगजीन थी। कारतूस तो सैकड़ों नहीं, हजारों की संख्या में मिले।

बढ़ती जा रही परेशानियां

मोहम्मदाबाद के भाजपा विधायक कृष्णानंद राय समेत सात लोगों की हत्या के मामले में सीबीआई कोर्ट से बरी होने के बाद अंसारी परिवार ने राहत की सांस ली थी,लेकिन कुछ दिनों से परेशानियां बढ़ती जा रही है। मुख्तार अंसारी पर तो मुकदमे पहले से थे, लेकिन अब उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी माने जाने वाले अब्बास पर शिंकजा कसता जा रहा है। 

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप