UP News: लखनऊ, राज्य ब्यूरो। दक्षिण अफ्रीकी देश गाम्बिया में 66 बच्चों की भारतीय कंपनी द्वारा निर्मित कफ सिरप (Cough Syrup) पीने से हुई मौत के मामले में उत्तर प्रदेश भी पूरी तरह अलर्ट (Alert in UP) हो गया है। यूपी के दवा बाजार में ये कफ सिरप न बिकें इसके लिए पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस मामले में भारत की मैडेन फार्मा कंपनी के जिन चार कफ सिरप पर प्रतिबंध लगा दिया है।

इन चार कफ सिरप पर प्रतिबंध

दक्षिण अफ्रीकी देश गाम्बिया में बच्चों की मौत के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भारत की मैडेन फार्मा कंपनी के जिन चार कफ सिरप पर प्रतिबंध लगाया गया है, उनमें सिरप प्रोमेथजाइन ओरल साल्यूशन, कोफेक्समालिन बेबी कफ सिरप, मैगरिप और कोल्ड सिरप शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ के अनुसार इसमें अत्याधिक मात्रा में डायथिलीन ग्लाइकोल व एथिलीन ग्लाइकोल है। ये रसायन शरीर पर बेहद घातक प्रभाव डालते हैं।

किसी भी कीमत पर न बिके दवा

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक की ओर से चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी कीमत पर इस कंपनी के सिरप प्रदेश की दवा मार्केट में नहीं बिकने चाहिए। उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशक डा. लिली सिंह से मामले की जांच कर 24 घंटे में रिपोर्ट मांगी है।

दवा कंपनी पर हो कठोर कार्रवाई

उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने निर्देश दिए हैं कि इस कंपनी के चार कफ सिरप की दवा मार्केट में हुई सप्लाई के बारे में जानकारी हासिल की जाए। जो भी स्टाक है, उसे कंपनी को वापस किया जाए या नष्ट किया जाए। किसी भी कीमत पर मेडिकल स्टोर में इस कंपनी के कफ सिरप की बिक्री न हों। सभी बिंदुओं पर मानक के अनुसार जांच कर इस दवा कंपनी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए।

कफ सिरप को घोषित किया जानलेवा

बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत के चार कफ सिरप को सेहत के लिए जानलेवा बताते हुए कहा है कि इससे किडनी में भारी जख्म हो जाते हैं और पश्चिम अफ्रीकी देश गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत के लिए भी इसी भारतीय कंपनी को जिम्मेदार ठहराया है। इन बच्चों की मौत से अफ्रीकी परिवार असहनीय पीड़ा झेल रहे हैं। भारत के हरियाणा में बनी बच्चों की यह चारों दवाएं घातक केमिकलों से दूषित हैं और दोयम दर्जे की हैं।

यह भी पढ़ें : इंडियन रोड कांग्रेस का 81वां अधिवेशन लखनऊ में, देश-विदेश के 1500 से अधिक डेलीगेट्स लेंगे हिस्सा

Edited By: Umesh Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट