Move to Jagran APP

UP Lok Sabha Election: कौशांबी में बोले उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद, जिन्होंने रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण ठुकराया, उन्हें ठुकराने का वक्त

UP Lok Sabha Election प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सपा बसपा व कांग्रेस गरीबों ओबीसी व दलितों के दुश्मन हैं जबकि प्रधानमंत्री मोदी उनके हित के लिए काम कर रहे हैं। कोरोना काल से अभी तक गरीबों को राशन दिया जा रहा है। उनके तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर गरीबों के लिए तीन करोड़ और आवास बनाया जाएगा।

By Jagran News Edited By: Vivek Shukla Wed, 15 May 2024 03:57 PM (IST)
प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य। जागरण

 जागरण संवाददाता, कौशांबी। प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सपा, बसपा व कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया। कौशांबी लोकसभा क्षेत्र की सिराथू विधानसभा में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि आइएनडीआइए गठबंधन का एक ही लक्ष्य है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कुर्सी से हटाना है। जब जनता नहीं चाहती तो क्या राहुल और अखिलेश प्रधानमंत्री की कुर्सी से नरेन्द्र मोदी को हटा पाएंगे?

कहा कि ये कहते हैं कि संविधान खतरे में है, जबकि सत्ता में रहते हुए इन्होंने संविधान को खतरे में डाला था। कहा कि श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का भव्य समारोह हुआ। उसका निमंत्रण सपा व कांग्रेस के नेताओं को भी भेजा गया था, लेकिन वो उसमें शामिल नहीं हुए। जिन्होंने रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण ठुकराया है अब उन्हें ठुकराने का वक्त आ गया है।

इसे भी पढ़ें- यूपी के इस मंडल में 70 पुलिसकर्मियों पर एक साथ हुई कार्रवाई, वजह जानकर आप भी कहेंगे- सही हुआ

उन्‍होंने कहा कि सपा, बसपा व कांग्रेस गरीबों, ओबीसी व दलितों के दुश्मन हैं, जबकि प्रधानमंत्री मोदी उनके हित के लिए काम कर रहे हैं। कोरोना काल से अभी तक गरीबों को राशन दिया जा रहा है। उनके तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर गरीबों के लिए तीन करोड़ और आवास बनाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें- सगाई के दिन युवती प्रेमी संग हुई फरार, सुबह पिता की खुली नींद तो इस बात को लेकर उड़ गए होश, बोले- भागने तक ठीक था लेकिन...

उपमुख्यमंत्री ने आगे कहा कि समाजवादी पार्टी गुंडों, माफियाओं व दंगाइयों की पार्टी है। हम प्रदेश में गुंडागर्दी वापस नहीं आने देंगे। कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री बाबू कल्याण सिंह को श्रद्धांलजि देने अखिलेश यादव नहीं आए, वहीं हार्ट अटैक से मरने पर माफिया मुख्तार के घर गए थे। ये साबित करता है कि उन्हें गरीबों से कोई मतलब नहीं है।