चित्रकूट, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश सरकार के 100 दिन पूरा होने पर मंगलवार को धर्मनगरी में वन महोत्सव का शुभारंभ किया। उन्होंने 35 करोड़ पौधारोपण अभियान का पहला पौधा कर्वी वन रेंज के मड़ैयन ग्राम पंचायत की सेहरिन में मटदर वन ब्लाक में रोपित किया। हरिशंकरी (पीपल, बरगद व पाकड़) का पौधा लगाते हुए लोगों को ग्लोबल वार्मिंग के प्रति सचेत किया और पौधारोपण व जल संरक्षण पर जोर दिया। साथ की चित्रकूट में बनने वाली टाइगर रिजर्व का जिक्र करते हुए पिछली सरकारों पर निशाना साधा कहा कि पिछली सरकारें डर और भय पैदा करती थी। अब यहां डकैत नहीं पैदा होंगे यहां टाइगर गुर्राएगा।

उन्होंने जनसभा में कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की तपोभूमि को कोटि कोटि नमन करता हुं। हम सबका सौभाग्य है कि उस कालखंड में इस धरती को भगवान राम ने सबसे पवित्र धरती माना था। जहां हम आज पौधारोपण कर रहे हैं त्रेता युग में यह पूरा क्षेत्र वनों से आच्छादित रहा होगा। धरती का तापमान बढ़ रहा है जिसका का कारण वनों का आच्छादन कम होना है। धीरे धीरे करके हम लोग ग्लोबल वार्मिंग की चपेट में आते दिखाई दे रहे है। अपने स्वार्थ के लिए प्रकृति के अनमोल रत्न को मनुष्य जब नष्ट करता है तो उसका मूल्य भी चुकाना होगा। हम सबका जीवन एक दूसरे पर आश्रित है। जंगलों की कटान से सूखा या अतिवृष्टि की स्थित देखने को मिलेगी। उन्होंने जहां पर पौधा लगाया इस वन क्षेत्र का जिक्र करते हुआ कहा कि कोदंड वन की स्थापना की जा रही है। भगवान राम का धनुष भी कोदंड है और यहां कामतानाथ का पर्वत भी धनुषाकार है। भगवान राम के इस धाम के संरक्षण की जिम्मेदारी हमारी है। जो वन यहां बनाया जा रहा है यहां रामायण कालीन सभी वृक्षों के लगाए जाने की व्यवस्था है।

उन्होंने एयरपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि बुंदेलखंड से जल्द ही प्रयागराज, लखनऊ और वाराणसी के लिए हवाई यात्रा शुरू होने वाली है। बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के निर्माण से यहां के लोगों का भला होगा। क्षेत्र का विकास होगा। राजापुर स्थित महाकवि तुलसीदास की जन्मस्थली और लालापुर स्थित महर्षि वाल्मीकि स्थली का सर्वांगीण विकास प्रदेश सरकार करा रही है। लालापुर में रोपवे भी बनवाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल जीवन मिशन योजना के तहत जल्द ही जिले के लोगों को आरओ का पानी पीने को मिलेगा। इस दौरान उन्होंने 115.42 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। जिसमें 28 योजनाओं का शिलान्यास और 15 योजनाओं का लोकार्पण शामिल रहा। हाई स्कूल की टापर, पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करने वालों और सरकारी योजनाओं के 10 पात्रों को मुख्यमंत्री ने मंच से सम्मानित किया।  चित्रकूट से मुख्यमंत्री सीधे वाराणसी के लिए रवाना हो गए।

Edited By: Abhishek Agnihotri