कानपुर, जागरण संवाददाता। Kanpur Ravana Dahan विजयादशमी महोत्सव पर श्री रामलीला सोसाइटी परेड में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने लंका पति रावण का वध किया तो वातावरण में प्रभु श्रीराम के जयकारों की गूंज हो उठी।

आतिशबाजी की मनोहारी छटा और प्रभु श्री राम और लंकापति रावण के बीच महासंग्राम देखने के लिए बड़ी संख्या में शहरवासी परेड मैदान पहुंचे। दिन भर हुई झमाझम बारिश के बाद भी परेड मैदान में रावण के पुतले का दहन विधिवत किया गया। रामलीला मंचन और पुतला दहन से पहले मेस्टन रोड स्थित श्री राम लीला भवन से परेड मैदान तक भगवान श्री राम की भव्य शोभायात्रा निकाली गई।

बुधवार को रामलीला में भगवान राम और लंकापति रावण के बीच महासंग्राम युद्ध लीला का मंचन हुआ। अहिरावण कुंभकरण और मेघनाद के वध से बौखलाए लंकापति रावण प्रभु श्री राम पर राक्षस सेना के साथ हमला करते हैं। जवाब में प्रभु श्री राम और वानर सेना लंकापति के हर प्रहार का करारा जवाब देते हैं।

कई पहर तक चले महासंग्राम के बाद जब रावण का वध नहीं होता है तब विभीषण प्रभु श्री राम को बताते हैं कि रावण की नाभि में अमृत का वास है जिस पर प्रहार करने से रावण वध पर हो जाएगा। प्रभु श्री राम रावण की नाभि पर निशाना लगाते हैं तीर लगते ही लंकापति धरा पर गिर जाता है जिसके बाद पूरी सेना में हाहाकार मच जाता है। वानर सेना मर्यादा पुरुषोत्तम के जयकारे लगाती है।

रामलीला मंचन में रावण वध की लीला होते हैं परेड मैदान में विशालकाय पुतले का दहन भी किया जाता है। पुतला दहन के दौरान आतिशबाजी के मनोहारी दृश्य को मौजूद सैकड़ों शहरवासी मोबाइल में कैद करने लगते हैं। इस अवसर पर महापौर प्रमिला पांडेय, सांसद सत्यदेव पचौरी, विधायक अमिताभ बाजपेई, महेश त्रिवेदी, श्री रामलीला सोसाइटी परेड के अध्यक्ष महेन्द्र मोहन गुप्त, सुरेश अवस्थी सोसायटी के प्रधान मंत्री कमल किशोर अग्रवाल वरिष्ठ उपाध्यक्ष पवन गर्ग आलोक अग्रवाल सहित शहर के गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक है विजयादशमी पर्व

परेड रामलीला सोसाइटी के मंच से सांसद सत्यदेव पचौरी ने कहा कि विजयादशमी पर्व असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक है। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने लंकापति रावण का वध कर अधर्म पर धर्म की जीत प्राप्त की थी। वही महापौर प्रमिला पांडेय ने कहा कि रामलीला मंचन युवा पीढ़ी को सभ्यता और संस्कार से परिचित करा रहा है परेड रामलीला की परंपरा वर्षों से रामलीला मंचन की शोभा बढ़ा रही है। श्री रामलीला सोसाइटी परेड के व्यासपीठ पर विराजमान महेश दत्त चतुर्वेदी ने अगले वर्ष के लिए उत्तराधिकारी के रूप में अपने बेटे बृजेश दत्त चतुर्वेदी के नाम की घोषणा की।

आतिशबाजी और लेजर लाइट शो देखने उमड़े शहरवासी

परेड रामलीला में रावण के पुतले दहन से पहले भव्य आतिशबाजी और लेजर लाइट के जरिए भगवान श्री राम के विभिन्न स्वरूप दिखाए गए। झमाझम बारिश के बाद परेड मैदान में हुई आतिशबाजी और लेजर लाइट शो में मानव पूरा शहर उमड़ आया हो। रंग बिरंगी लेजर लाइट के बीच आतिशबाजी के दृश्य ने सभी को आसमां की ओर देखने को विवश कर दिया।

रामलला मंदिर में भी हुआ रावण दहन

श्री राम लला जी महाराज रामलीला समिति की ओर से रावतपुर स्थित रामलला मंदिर में शोभा यात्रा और रामलीला का आयोजन किया गया। लीला की समाप्ति होने पर रावण के पुतले का दहन किया गया। हालांकि रेल बाजार की रामलीला में भारी बारिश के चलते पुतले का दहन नहीं हो सका। इसी प्रकार शहर की कई रामलीलाओं में प्रभु श्री राम की लीला का मंचन विधिवत किया गया परंतु बारिश के चलते पुतला दहन नहीं हो सका। 

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट