कानपुर, जेएनएन। भारत व पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच को लेकर एक बार फिर सट्टे का बाजार गर्म हो गया है। करोड़ों के दांव लगने की आशंका है। रविवार को पूरे दिन क्रिकेट प्रेमियों की नजर टीवी और मोबाइल पर लगी रहेगी। ऐसे में खुफिया टीम भी अलर्ट हो गई है। सर्विलांस और साइबर एक्सपर्ट की मदद से पुराने सट्टेबाजों की गतिविधियां देखी जा रही हैं। संदिग्ध लगते ही उन्हें हिरासत में लिया जाएगा।

आइपीएल के दौरान भी शहर में हर दिन लाखों रुपये का दांव लग रहा था। काकादेव और नजीराबाद पुलिस ने कुछ बुकी व सटोरियों को पकड़ा भी, लेकिन जुआ अधिनियम की धाराओं में कार्रवाई करके थाने से जमानत पर छोड़ दिया था। अब रविवार के मैच को लेकर बड़े पैमाने पर सट्टा लगने की आशंका जताई जा रही है। जयपुर में बैठे सट्टा माफिया सोनू सरदार के फजलगंज व काकादेव निवासी साथियों के अलावा पुलिस पिछले दो वर्ष में गोङ्क्षवद नगर, रायपुरवा, रेलबाजार, कलक्टरगंज आदि क्षेत्रों में पकड़े गए सटोरियों की भी तलाश कर रही है। पूर्व में इन आरोपितों से पुलिस ने करोड़ों रुपये बरामद किए थे।

सूत्रों के मुताबिक ये सभी छापे के डर से भूमिगत हो गए हैं। उनके पुराने मोबाइल नंबर और इंटरनेट आइडी बंद हैं। इससे माना जा रहा है कि वह किसी नए मोबाइल फोन, सिमकार्ड और नई आइडी के जरिए सट्टेबाजी करा रहे हैं। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सट्टे का खेल अब मोबाइल फोन में विभिन्न तरह की वेबसाइट और एप्लीकेशन के जरिए खेला जाता है। लिहाजा सर्विलांस टीम और साइबर टीम को अलर्ट किया गया है। कुछ पुराने मोबाइल नंबरों व आइडी की भी जांच कराई जा रही है।

Edited By: Abhishek Agnihotri