कानपुर, जेएनएन। कांग्रेस नेता व लगातार तीन बार विधायक रहे अजय कपूर के घर और उनके भाई संजय कपूर की साइकिल पार्ट्स बनाने की फैक्ट्री में शुक्रवार सुबह करीब सात बजे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की चेन्नई-लखनऊ की संयुक्त टीम ने छापेमारी की। टीम ने घर पर मौजूद सदस्यों से पूछताछ के साथ ही बैंक खातों का ब्योरा जुटाया। दोपहर में एक टीम पूर्व विधायक के भाई कोआपरेटिव इस्टेट चेयरमैन विजय कपूर को लेकर साइकिल पाट्र्स बनाने की फैक्ट्री गई और दस्तावेज खंगाले। मनी लांड्रिंग के मामले में कार्रवाई की जानकारी मिल रही है। देर शाम तक टीम फैक्ट्री में जांच-पड़ताल हुई। 

दस्तावेज खंगालने के साथ पूछताछ भी

ईडी की टीमें सुबह एक साथ पूर्व विधायक के गोविंदनगर स्थित आवास और 51 बी दादा नगर स्थित साइकिल फैक्ट्री पहुंचीं। जहां टीम को बाहर ताला लगा मिला। यहां से टीम संजय कपूर की फैक्ट्री 42-43 बी दादा नगर पहुंची। जहां टीम ने दस्तावेज खंगालने के साथ पूछताछ की। दोपहर करीब एक बजे टीम पूर्व विधायक के भाई कोआपरेटिव इस्टेट चेयरमैन विजय कपूर को लेकर साइकिल पाट्र्स बनाने की फैक्ट्री गई। जहां करीब तीन घंटे पड़ताल के बाद टीम उन्हें लेकर दोबारा घर पहुंची। टीम द्वारा फैक्ट्री से लेन-देन संबंधी दस्तावेज के साथ बैंक के लेन-देन के लेजर कब्जे में लिए जाने की बात सामने आई। छापेमारी के दौरान फैक्ट्री व घर में मौजूद सभी लोग टीम की निगरानी में रहे। छापेमारी के दौरान पूर्व विधायक के दिल्ली में होने की जानकारी हुई। छापेमारी की भनक पुलिस के साथ खुफिया तंत्र तक को नहीं लगी। 

नोटबंदी में करोड़ों रुपये बदलने की चर्चा

छापेमारी के पीछे नोट बंदी के दौरान करोड़ों के नोट बदलने को लेकर चर्चा रही। यह नोट एक बैंक में कई फर्जी खाते खुलवाकर बदले जाने की बात सामने आई है। पता चला कि इन खातों से फैक्ट्री में काम करने वालों से करोड़ों की नकदी बदलवाई गई जिसमें कपूर परिवार का काफी दखल रहा है। साथ ही कई बेनामी संपत्ति को लेकर शिकायत के बाद भी कार्रवाई की चर्चा लोग दबी जुबान से करते रहे। 

माहौल भांपते रहे नेता और समर्थक

कांग्रेस नेता, समर्थक और परिचित घर के इर्द-गिर्द गाडिय़ों से चक्कर लगाकर माहौल भांपते दिखे। वहीं लाल क्वार्टर स्थित पूर्व विधायक आवास में बड़ी छापेमारी की सूचना फैलने पर लोगों को मजमा लगा रहा। इस बारे में कोआपरेटिव इस्टेट चेयरमैन विजय कपूर से फोन पर संपर्क किया गया तो फोन उनके रिश्तेदार और प्रदेश सरकार के एक मंत्री के भाई ने उठाकर बात न हो पाने की जानकारी दी।

Posted By: Abhishek