कानपुर, जेएनएन। कालिंदी एक्सप्रेस विस्फोट के बाद पड़ताल में बोगी से मिले पत्र ने सुरक्षा एजेंसियों के होश उड़ा दिए हैं। जैश-ए-मोहम्मद एजेंट के नाम से मिले इस पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में आरडीएक्स से भरी बल्ली लगाने और शताब्दी एक्सप्रेस को निशाना बनाने के लिए दिल्ली-कानपुर रूट पर पुलिया उड़ाने की बात लिखी गई है। इसमें साढ़े पांच करोड़ रुपये बतौर बोनस देने की बात कही गई है।

इस पत्र में लिखा है दिल्ली-कानपुर रूट पर कानपुर से 30 किमी पहले 27 फरवरी को एक पुलिया को ब्लास्ट कर उड़ाना है। डेढ़ किलो आरडीएक्स विस्फोट कर कानपुर-दिल्ली शताब्दी एक्सप्रेस को निशाना बनाना है। आनंद विहार बस अड्डे पर एक दिन पहले विस्फोटक दे दिया जाएगा। पत्र में सबसे ऊपर पैगाम और दाहिने कोने में 786 लिखा है। उसके नीचे जैश-ए-मोहम्मद एजेंट लिखा है। पत्र की शुरुआत में लिखा गया है कि मीटिंग कर इस बारे में सभी को अवगत कराया जा चुका है। दूसरे बिंदु में लिखा है मोदी के मंच को बम से उड़ाना है। इसके लिए दो किलो आरडीएक्स मंच पर लगाई जाने वाली दस फीट बल्ली को काटकर भर दिया गया है। इस काम के लिए साढ़े पांच करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

डायरी में मिले कोडवर्ड

तलाशी के दौरान उसी बोगी में ही एक डायरी भी एटीएस को मिली है। डायरी में मक्कड़पुर गांव का नाम लिखा है। साथ ही वहां के आधा दर्जन से अधिक लोगों के नाम भी लिखे हैं। जांच अधिकारियों के मुताबिक डायरी में नंबर गेम में कुछ कोडवर्ड भी लिखे गए हैं। जांच एजेंसी के अधिकारी डायरी कब्जे में लेकर कोडवर्ड डीकोड करने में जुटे हैं।

पत्र की जांच कर रही है एटीएस 

एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने बताया कि जो पत्र मिला है, उसकी जांच एटीएस कर रही है। पत्र के जरिए दी गई धमकियों को गंभीरता से लिया गया है। सभी उच्चाधिकारियों को जानकारी दे दी गई है। हालांकि कुछ जांच अधिकारियों का कहना है कि जिस तरह से पत्र लिखा गया है, उससे तो यह किसी की शरारत लग रही है। उन्होंने बताया कि कालिंदी एक्सप्रेस में कम तीव्रता का धमाका हुआ है। इस मामले में पुलिस के साथ एटीएस ने जांच शुरू कर दी है। पत्र व डायरी मिली है। जो भी तथ्य सामने आएंगे, उस आधार पर कार्रवाई की जाएगी। इस प्रकरण में जीआरपी फर्रुखाबाद में मामला दर्ज होगा। 

कालिंदी एक्सप्रेस में विस्फोट, अफरा-तफरी

कानपुर से 40 किमी. दूर बर्राजपुर (शिवराजपुर) रेलवे स्टेशन पर कल देर शाम कालिंदी एक्सप्रेस (14723) की जनरल बोगी के टॉयलेट के पास विस्फोट हो गया। धमाके से टॉयलेट और बैटरी बैकअप बॉक्स के परखचे उड़ गए। जोरदार आवाज से स्टेशन पर अफरा-तफरी मच गई। यहां पर जांच के दौरान घटनास्थल के पास ही मिले एक प्लास्टिक बैग में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद एजेंट के नाम से धमकी भरा पत्र मिलने से मामला काफी संवेदनशील हो गया है। एटीएस ने शुरुआती जांच में कम तीव्रता के बम विस्फोट की आशंका जताई है। जांच के बाद रात 11:06 बजे ट्रेन रवाना कर दी गई।

कानपुर सेंट्रल स्टेशन से शाम 5:30 बजे कालिंदी एक्सप्रेस भिवानी (हरियाणा) के लिए रवाना हुई थी। शाम 6:40 मिनट पर ट्रेन बर्राजपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर पहुंची। ट्रेन रुकने से कुछ सेकेंड पहले ही सबसे पीछे लगी जनरल बोगी के टॉयलेट के पास धमाका हो गया। कई लोग बाहर भागने के चक्कर में गिरकर चुटहिल हो गए। मौके पर पहले जीआरपी पहुंची और फिर शिवराजपुर पुलिस के साथ डॉग स्क्वाड और फोरेंसिक टीम ने जांच-पड़ताल शुरू की। मौके पर पहुंचे एंटी टेररिस्ट स्क्वाड (एटीएस) के अधिकारियों के मुताबिक शुरुआती जांच में बोगी में बारूद के अवशेष मिले हैं। इससे आशंका है कि पटाखे या फिर कम तीव्रता वाले बम से विस्फोट हुआ है। हालांकि जांच के बाद ही स्पष्ट तौर पर कुछ कहा जा सकेगा।

सीसीटीवी फुटेज एकत्र कर रही एटीएस

विस्फोट के बाद एटीएस कानपुर, अनवरगंज, कल्याणपुर और बर्राजपुर स्टेशन पर लगे सीसीटीवी के फुटेज इक कर रही है। यात्री ने जिस संदिग्ध व्यक्ति के टॉयलेट के पास बैठे होने की बात कही है, फुटेज की मदद से उस तक पहुंचने की कोशिश करेगी। इसके लिए अलग से टीम लगाई गई है।

आधा बोरी मीट भी मिला

एटीएस टीम को टॉयलेट के पास से आधा बोरी मीट भी मिला। एटीएस ने उसे कब्जे में लिया है। एटीएस के अधिकारियों के मुताबिक मीट की जांच करवाई जाएगी।

एटीएस सीओ भी रवाना

इस घटना के बाद कानपुर से एटीएस की टीम इंस्पेक्टर के नेतृत्व में रवाना हो गई थी। वहीं एटीएस कानपुर यूनिट के सीओ मनीष सोनकर घटना के वक्त झांसी में थे। वह भी वहां से देर रात घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने अपनी टीम के अलावा जीआरपी और पुलिस सहित फील्ड यूनिट से घटना संबंधी जानकारी जुटाई।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस