जागरण संवाददाता, उरई : कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे कार्यों संक्रमण की स्थिति व वैक्सीनेशन की प्रगति के संबंध में जनपद की नोडल अधिकारी संयुक्ता समद्दार ने अधिकारियों के साथ बैठक की।

विकास भवन के रानी लक्ष्मीबाई सभागार में आयोजित बैठक में उन्होंने कोविड-19 से संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कर निगरानी समितियों को सक्रिय करने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि शतप्रतिशत टीकाकरण के लिए माइक्रो प्लान तैयार कर कारवाई की जाए। उन्होंने कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। नोडल अधिकारी ने कोविड-19 से संबंधित दिशा निर्देशों का जनपद स्तर पर शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। नोडल अधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निगरानी समितियों के माध्यम से 18 वर्ष या उससे अधिक आयु के व्यक्ति जो प्रथम तथा द्वितीय डोज से अब तक वंचित हैं उनका सर्वे कराते हुए चिन्हित कर टीकाकरण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देशित करते हुए कहा कि लक्षण युक्त मरीजों को निगरानी समितियों के माध्यम से मेडिसन किट का वितरण किया जाए तथा सफाई कर्मचारियों के माध्यम से गांव में सैनिटाइजेशन का कार्य निरंतर किया जाए ताकि कोविड-19 की महामारी से बचा जा सके। नोडल अधिकारी ने जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन से स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित हॉस्पिटल में उपलब्ध बेड, जनपद में कोविड सक्रमण की स्थिति, जीवन रक्षक दवा, कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन की उपलब्धता, वेंटीलेटर ब्लॉक बार कंटेनमेंट जोन से संबंधित जानकारी ली। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से होम आइसोलेशन में भर्ती मरीजों के बारे में जानकारी ली और निर्देश देते हुए कहा कि मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होने पर उन्हें तुरंत सहायता उपलब्ध कराई जाए। बैठक में एडीएम पूनम निगम, अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे विशाल यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. नरेंद्र देव शर्मा, परियोजना निदेशक शिवाकांत द्विवेदी, जिला विकास अधिकारी सुभाष चंद्र त्रिपाठी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran