संवाद सहयोगी, हाथरस : ग्रामीण बैंक ऑफ आर्यावर्त के प्रबंधकीय समीक्षा सम्मेलन में चेयरमैन एसबी ¨सह ने कहा कि ग्राहक की संतुष्टि ही हमारा सबसे बड़ा ध्येय है। हमें अपने सेवा विस्तार के क्षेत्र में कदम बढ़ाते हुए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं में ऋण वितरण में गति लानी होगी।

चेयरमैन एसबी ¨सह यहां एक रेस्टोरेंट में बैंक प्रबंधकों के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने केंद्र व राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं जीवन ज्योति बीमा, सुरक्षा बीमा, अटल पेंशन, जन-धन खाता आदि से ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को जोड़ने पर जोर दिया। ऋण वितरण के क्षेत्र में हम लोगों का जीवन स्तर ऊंचा करने के लिए कम ब्याज पर ऋण देकर उनके उत्थान के प्रति संकल्पित हैं। हींग उत्पाद के क्षेत्र में यूनिट लगाने पर पूरा सहयोग रहेगा। महाप्रबंधक रंजीत ¨सह ने हाथरस व मथुरा की शाखाओं के कार्य पर संतोष जाहिर किया और कहा कि जिले के आर्थिक विकास, शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन, नारी सशक्तीकरण जैसे क्षेत्रों में ऋण वितरण कर अग्रणी भूमिका निभा रहा है। क्षेत्रीय प्रबंधक एसके श्रीवास्तव ने अपने क्षेत्र की व्यवसाय प्रगति पर प्रकाश डाला। कहा कि आर्यावर्त दुर्घटना सह दिव्यांगता बीमा योजना मील का पत्थर साबित हुई है, जिससे बैंक के 48 हजार ऋणी खाता धारकों को लाभ मिलेगा। इसमें किसी भी दुर्घटना की स्थिति में परिवार को दो लाख रुपये तक की सहायता मिलेगी।

समापन सत्र में विभिन्न मापदंडों पर उत्कृष्ट सेवा देने वाले प्रबंधकों को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में वरिष्ठ प्रबंधक एमए किदवई, एकेएस चौहान, आदित्य शर्मा, रामेंद्र कुमार, राजीव आर्या, मनोज वाष्र्णेय, अमित शर्मा, आकाश गोसावी, पवन मीणा, राजेश वर्मा, विशन चंद्र माहेश्वरी, शरद माहेश्वरी, संजीव विश्नावत, वीरी ¨सह, नवनीत ¨सह, विवेक अग्रवाल, नीलेश गुप्ता, अनिरुद्ध, योगेश शर्मा, पीयूष गुप्ता आदि मौजूद थे। संचालन शिवदेव श्रोती ने किया।

माइक्रो एटीएम से दूर की

जाएगी लेनदेन की समस्या

संस, हाथरस : बैंक कनेक्टिविटी को लेकर दिक्कतें बढ़ती जा रही हैं। इससे ग्राहकों को लंबे समय तक लेनदेन का इंतजार करना पड़ता है, लेकिन अब इसका हल निकाल लिया गया है। माइक्रो एटीएम के जरिए स्थानीय मजबूत नेटवर्क वाले सिम के जरिए लेनदेन होगा। इसके लिए मशीनों की खरीद हो चुकी है।

ग्रामीण बैंक आफ आर्यावर्त के क्षेत्रीय कार्यालय में बैंक के चेयरमैन एसबी ¨सह ने पत्रकारों से रूबरू होते हुए कहा कि छोटे ग्राहकों को लोन पर दो लाख तक का बीमा देने का प्रावधान है। एमएसपी सेंटर पर किसानों की खरीद के लिए बैंक ने रजिस्ट्रेशन सुविधा मुहैया कराई है। इससे किसानों की फसल बिकने पर एक साल में ऋण चुकता करने पर तीन फीसद छूट के साथ चार फीसद ही ब्याज लिया जाएगा, जबकि एक साल से अधिक समय होने पर उन्हें 11 फीसद ब्याज देना होता है। हींग, अचार, मुरब्बा, पापड़ आदि कारोबार करने पर कम लागत में मुनाफा कमाकर जीवन स्तर ऊंचा किया जा सकता है। बैंक ऋण सुविधा मुहैया करा रही है। मोबाइल बैं¨कग व साक्षरता आदि से ग्राहकों को जागरूक किया जा रहा है। कहीं किसी को शिकायत है तो उसका निराकरण कराया जाएगा। बैंक ने गत वर्ष 110 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा कमाया था, जो इस साल बढ़कर 150 करोड़ हो गया है। बैंक की जमा पूंजी 14,280 करोड़ है। बैंक ने अपने ग्राहकों को 11,350 करोड़ रुपये का कर्ज दिया है। वार्ता में जीएम रंजीत ¨सह, आरएम एसके श्रीवास्तव भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran