गोरखपुर, जागरण संवाददाता। Sahjanwa-Dohrighat rail line: बहुप्रतीक्षित सहजनवा-दोहरीघाट रेल लाइन के लिए जिला प्रशासन तेजी से जमीन का अधिग्रहण करेगा। इसको लेकर मंगलवार को जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई बैठक में कार्ययोजना बनाई गई। करीब 81.17 किलोमीटर लंबी रेल लाइन के लिए दो जिलों की पांच तहसीलों के 111 गांवों में जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

इसमें से 104 गांव गोरखपुर के सहजनवा, खजनी, बांसगांव व गोला तहसीलों के हैं। किसानों के सत्यापन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। जिलाधिकारी ने रेलवे अधिकारियों को आश्वासन दिया है कि तहसीलों की टीम दिन-रात मेहनत कर जल्द से जल्द अधिग्रहण पूरा कर लेगी। समय से जमीन मिल गई तो रेलवे तीन साल में लाइन निर्माण का काम पूरा कर लेगा।

जमीन अधिग्रहण के लिए शुरू हुआ किसानों के सत्यापन का काम

सहजनवा-दोहरीघाट रेल लाइन परियोजना का इंतजार कई वर्षों से इस क्षेत्र के लोग कर रहे हैं। इस रेल लाइन के बन जाने से वाराणसी एवं बिहार के लिए एक और मार्ग तैयार हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्राथमिकता वाली योजना होने के कारण केंद्रीय स्तर से भी निगरानी की जा रही है। इस रेल लाइन का निर्माण करीब 1320 करोड़ रुपये की लागत से होना है। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि जमीन के अधिग्रहण में कोई दिक्कत नहीं आएगी। गोरखपुर एवं मऊ जिले में मिलाकर 535 हेक्टेयर जमीन की जरूरत है।

रेलवे उपलब्ध करा चुका है जमीन का ब्योरा

रेलवे द्वारा दिसंबर 2021 से फरवरी 2022 के बीच सभी गांवों के गाटा संख्या, किसानों का नाम आदि का विवरण जिला प्रशासन को उपलब्ध कराया जा चुका है। जमीन अधिग्रहण के लिए 50 करोड़ रुपये भी दिए जा चुके हैं। बैठक में शामिल पूर्वोत्तर रेलवे के उप मुख्य इंजीनियर निर्माण कृष्णा सिंह ने बताया कि परियोजना के डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के लिए जल्द ही एजेंसी का चयन कर लिया जाएगा। जिलाधिकारी ने बताया कि सभी तहसीलों के एसडीएम, तहसीलदार को जमीन अधिग्रहण में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है। बैठक के दौरान गोला के एसडीएम रोहित मौर्य भी मौजूद रहे।

1320 करोड़ रुपये होंगे खर्च

सहजनवा से दोहरीघाट के बीच बनने वाली रेल लाइन पर करीब 1320 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसपर 10 बड़े पुल, सरयू नदी पर एक महत्वपूर्ण पुल, 47 छोटे पुल एवं 15 अंडर पास बनाए जाएंगे। इस रेल लाइन पर दो रेल ओवरब्रिज भी बनेंगे। इस लाइन पर चलने वाली ट्रेनें 12 स्टेशनाें से होकर गुजरेंगी। इनमें से चार हाल्ट स्टेशन होंगे।

Edited By: Pradeep Srivastava