गोरखपुर, गजाधर द्विवेदी। गोरखपुर शहर के मोहद्दीपुर-जंगल कौड़िया फोरलेन के डिवाइडर को फूलों से सजाया जाएगा। इसके लिए कोलकाता से यूफोरबिया के 700 व बोगनवेलिया के 3500 पौधे मंगाए जा रहे हैं। गोरखनाथ मंदिर से आनंदलोक हास्पिटल तक यूफोरबिया के पौधे लगाए जाएंगे। शेष डिवाइडर पर बोगनवेलिया के फूल शोभा बढ़ाएंगे। जिले की यह पहली सड़क है जिसके डिवाइडर पर इन दोनों फूलों के पौधे लगाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकता वाले कार्यो पर संबंधित विभाग संवेदनशील हो गए हैं। कार्य में तेजी आ गई है। उन्हीं में से एक कार्य है जंगल कौड़िया-मोहद्दीपुर फोरलेन। जंगल कौड़िया से गोरखनाथ पुल होते हुए धर्मशाला, रेलवे स्टेशन, विश्वविद्यालय चौक से मोहद्दीपुर तक कुल 17.5 किमी लंबाई में 288.30 करोड़ रुपये से फोरलेन बनाया जा रहा है। लगभग 92 प्रतिशत निर्माण पूरा हो चुका है। फोरलेन के बीच में लगभग डेढ़ मीटर मीडियन (डिवाइडर) बनाया गया है। इसी डिवाइडर पर बोगनवेलिया व यूफोरबिया के फूल खिलेंगे।

दोनों फूलों के एक-एक पौधे की कीमत क्रमश: 60 रुपये व 40 रुपये है। यूफोरविया लाल रंग व बोगनवेलिया के तीन रंग- लाल, सफेद व पीले फूलों वाले पौधे मंगाए जा रहे हैं। कुछ पौधे दो दिन के अंदर आ जाएंगे, उन्हें लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। एक सप्ताह के अंदर सभी पौधों के आने की उम्मीद है।

दो-ढाई फीट के होंगे पौधे: जिले में इन दोनों फूलों के पौधे उपलब्ध हैं। लेकिन वे बहुत छोटे हैं। उनमें अभी फूल भी नहीं आए हैं। इसलिए राष्ट्रीय राजमार्ग ने कोलकाता से पौधे मंगाने का निर्णय लिया है। फूलों के पौधे दो-ढाई फीट के हैं और उनमें फूल भी आ चुके हैं। इन्हें लगाने के बाद ही सड़क का सौंदर्य बढ़ जाएगा।

चार जगह लगाया जाएगा हाईमास्ट: इस रोड पर शहर में चार स्थानों पर हाईमास्ट लगाने की योजना बनाई गई है। हास्टल के पूर्वी छोर, विश्वविद्यालय चौराहा, रेलवे स्टेशन व यातायात तिराहा से धर्मशाला बाजार के बीच में हाईमास्ट लगाया जाएगा। इसी सप्ताह इसे लगा दिया जाएगा।

राष्ट्रीय राजमार्ग के सहायक अभियंता आरके सिंह ने बताया कि सड़क लगभग बनकर तैयार है। मानीराम में ओवरब्रिज का कार्य चल रहा है। वह भी लगभग 35 प्रतिशत पूरा हो चुका है। रेलवे जीएम आफिस के समाने 3.5 किमी सड़क का निर्माण बचा था, वहां भी काम शुरू हो गया है। जंगल कौड़िया से लेकर मोहद्दीपुर तक डिवाइडर बन चुका है। उस पर फूलों के पौधे लगाने का कार्य दो दिन के अंदर शुरू कर दिया जाएगा।

Edited By: Pragati Chand