गोरखपुर, जागरण संवाददाता। झंगहा के नौवाबारी पलिपा निवासी 17 वर्षीय गणेश जायसवाल पुत्र जितेन्द्र जायसवाल की जान चचेरे भाई 16 वर्षीय आकाश जायसवाल पुत्र साहब जायसवाल के पीछे जाने के कारण हुई थी। गणेश ने हत्यारोपितों को आकाश की हत्या करते देख लिया था। हत्यारोपितों ने इसीलिए उसकी भी जान ले ली। हत्यारोपितों ने दोनों किशोरों की हत्याएं उनके सिर पर फावड़ा मारकर की थी। पुलिस घटना में प्रयुक्त फावड़े को बरामद कर चुकी है। दोनों हत्यारोपितों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है।

युवती से दोस्‍ती की वजह से गई जान

गणेश व आकाश की हत्या का पुलिस जल्द ही पर्दाफाश करने वाली है। पुलिस के मुताबिक आकाश एक बैंड में काम करता था और पिछले चार माह से उसकी एक युवती से दोस्ती थी। युवती पहले एक दूसरे युवक के संपर्क में थी। वह करीब आठ माह तक उसके घर पर रही थी। युवक पिछले वर्ष दुष्कर्म के आरोप में जेल में बंद हुआ था। जेल में उसकी मुलाकात युवती के मां-बाप से हुई। वह दोनों भी वहां बहू की हत्या के आरोप में जेल में बंद थे। युवती का भाई दुबई में था। इस दौरान उसके भाभी की उसके मां-बाप ने हत्या कर दी थी। जेल में युवती के पिता ने उसे जिम्मेदारी दी थी कि वह उसकी पुत्री का ध्यान रखे।

जेल से जमानत पर छूटने के बाद युवती के घर आने-जाने लगा था आरोपित

जेल से जमानत पर छूटने के बाद वह युवती को अपने घर लेते आया और वहां दोनों एक दूसरे के संपर्क में आ गए। चार माह पहले युवक ने युवती की मां की जमानत करा दी। उसके बाद युवती अपने घर चली आई थी। यहां उसकी दोस्ती आकाश से हो गई थी। युवती के पहले प्रेमी को यह बात अखर रही थी। उसने इसे लेकर कई बार युवती को टोका भी, लेकिन वह नहीं मानी तो युवक ने उसे अपने रास्ते से हटाने का फैसला किया। युवक देवरिया जिले के रामपुर कारखाना क्षेत्र का रहने वाला है, लेकिन वह काफी दिनों से अपने ननिहाल में रहता है। उसने देवरिया के गौरीबाजार क्षेत्र के अपने एक साथी को साथ में लेकर घटना को अंजाम दिया।

काम दिलाने के बहाने आकाश को आरोपित ने जाल में फंसाया

आकाश को रास्ते से हटाने के लिए मुख्य हत्यारोपित ने उससे मित्रता की और बीते 10 जनवरी को उसे अपने पास बुलाया कि वह उसे काम दिलवाएगा। इससे उसकी अच्छी कमाई होगी। आकाश रात में मोबाइल पर मुख्य हत्यारोपित से बात कर रहा था। उसके घर के पास गणेश का भी घर है। रात में उसने आकाश को मोबाइल पर बात करते हुए देख लिया था। आकाश जब घर से निकला तो गणेश भी उसके पीछे-पीछे चल पड़ा।

सिर पर फावड़े से प्रहार कर की थी हत्‍या

वहां मुख्य हत्यारोपित ने अपने साथी के साथ मिलकर आकाश के सिर पर फावड़ा मारकर उसकी हत्या कर दी। गणेश ने यह देख लिया तो हत्यारोपितों ने उसकी भी हत्या कर दी। बाद में दोनों आकाश व गणेश का शव गुलाब जायसवाल के खेत में लेकर गए। वहां खेत में खोदकर दोनों का शव दफ्न कर दिए। हत्या के बाद आरोपित ने आकाश के मोबाइल से फोन करके युवती को मिलने के लिए भी बुलाया था। पुलिस का कहना है कि अभी दोनों हत्यारोपित स्पष्ट रूप से बहुत कुछ नहीं बता रहे हैं। दोनों ने आकाश व गणेश की हत्या किस जगह पर की। पुलिस दोनों से पूछताछ में जुटी है।

खेत का पुलिस ने तीसरी बार किया निरीक्षण

पुलिस शुक्रवार को फिर उस स्थान पर गई, जिस खेत से दोनों के शव मिले थे। पुलिस ने दोनों आरोपितों के बातों का परीक्षण भी किया कि उनके बयान में कितनी सच्चाई है।

युवती से भीा की जा रही है पूछताछ

सीओ चौरीचौरा अखिलानंद उपाध्‍याय ने कहा कि पुलिस घटना के पर्दाफाश के लिए गंभीरता से जुटी हुई है। कई साक्ष्य पुलिस के हाथ में आ गए हैं। युवती से पूछताछ हो चुकी है। जल्द आरोपितों को गिरफ्तार कर घटना का पर्दाफाश किया जाएगा।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi