गोरखपुर, उमेश पाठक। ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे 'यार्कर मशीन' रितेश यादव ने अपनी यार्कर से नारियल तोड़कर सबको चौंका दिया है। सोशल मीडिया पर वायरल उनका वीडियो अब तक 40 हजार से अधिक बार देखा जा चुका है। बल्लेबाज के पैर के पंजे पर बिल्कुल सटीक जगह गेंद फेंकने में महारत हासिल कर चुका यह बॉलर फिलहाल इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) में जगह बनाने के लिए पसीना बहा रहा है। 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकने में सक्षम रितेश के एक वीडियो की तारीफ दुनिया के नंबर एक गेंदबाज रहे ब्रेट ली भी कर चुके हैं।

डीडीसीए की प्रतियोगिताओं में दो साल तक खेलने का मिला मौका

सोशल मीडिया के जरिये सुर्खियों में आए गेंदबाज रितेश सिंघडिय़ा मोहल्ले में रहते हैं। बचपन में जब टेनिस बॉल से उन्होंने क्रिकेट की शुरुआत की तब पिता रमाशंकर को पसंद नहीं आया। रितेश की प्रतिभा उस समय के स्टार खिलाड़ी आकाश गुप्ता ने पहचानी और साल 2012 में क्रिकेट की मुख्य धारा में आने को प्रेरित किया। इसी बीच मां मीरा देवी की मौत ने रितेश को झकझोर दिया, लेकिन वह लक्ष्य से नहीं भटके। लखनऊ के अलग-अलग क्लबों में छह महीने खेलने के बाद पारिवारिक झंझावतों के चलते उन्हें गोरखपुर लौटना पड़ा।

मित्रों की मदद और रिश्तेदारों की प्रेरणा से कुछ ही दिन बाद रितेश फिर मैदान में उतरे और इस बार उन्होंने दिल्ली की राह पकड़ ली। डीडीसीए (दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन) की प्रतियोगिताओं में दो साल तक खेलने के दौरान रितेश को भारतीय क्रिकेट टीम के कई स्टार खिलाडिय़ों का सानिध्य मिला। उनकी सफलता से पिता का मन भी अब बदलने लगा है और वह बेटे का हौसला बढ़ाने में जुट गए। रितेश इस समय गोरखपुर में लेवल टू के कोच आकाश की एकेडमी में प्रैक्टिस कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर डालते हैं वीडियो

प्रैक्टिस के दौरान अपनी गेंदबाजी का वीडियो रितेश यार्कर मशीन के नाम से सोशल मीडिया पर डालते हैं। उनका पूरा जोर यार्कर पर रहता है। गेंद से नारियल तोडऩे वाला वीडियो रितेश ने लॉकडाउन के दौरान घर में बनाया और ट्वीटर पर अपलोड किया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस