गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया दशहत में है तो सतर्कता पर स्वास्थ्य विभाग आंकड़ों में उलझा दिख रहा है। जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का दावा है कि विदेश से गोरखपुर पहुंचे 49 लोगों की नियमित निगरानी की जा रही है, जबकि रिकार्ड में पंजीकृत महज 16 हैं। आंकड़ों के इस अंतर पर उनके अपने तर्क भी हैं। तर्क चाहे जो हो, पर यह सवाल तो यह है कि जब आंकड़ों में यह उलझन है तो फिर सतर्कता के उपाय कितने कारगर होंगे?

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. श्रीकांत तिवारी 33 लोगों की निगरानी विश्व स्वास्थ्य संगठन से होने की दलील देते हैं। दूसरी ओर विश्व स्वास्थ्य संगठन के डाटा मैनेजर नंदलाल किसी तरह की मानीटरिंग से इन्कार कर रहे हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी के मुताबिक शासन से पहली सूचना 30 जनवरी को मिली थी। इसमें गीडा की युवती के चीन से लौटने की जानकारी दी गई। इसके बाद बड़हलगंज के युवक का पता चला जो 14 जनवरी को गोरखपुर आया था। दो फरवरी को मेडिकल कॉलेज रोड निवासी भाई-बहन, चार फरवरी को 40 लोग, पांच फरवरी को तीन और सात फरवरी को दो लोगों के गोरखपुर पहुंचने की सूचना मिली। यादो पार्नचाई को छोड़कर बाकी सभी को ढूंढ लिया गया है। रोजाना जांच रिपोर्ट स्वास्थ्य निदेशालय को भेजी जा रही है। इस दावे के उलट स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड में का ब्योरा कुछ और कह रहा है।

गोरखपुर में विदेश से पहुंचे लोगों की सूची

10 जनवरी- एक

14 जनवरी- एक

17 जनवरी- एक

28 जनवरी- तीन

29 जनवरी- दो

30 जनवरी- एक

31 जनवरी- तीन

02 फरवरी- दो

03 फरवरी- दो

नेपाल की दोनों सीमाओं पर चौकसी

जागरण संवाददाता, गोरखपुर : कोरोना वायरस को देखते हुए महराजगंज जिले से लगने वाली नेपाल की दोनों सीमाओं सोनौली और ठूठीबारी पर लगातार चौकसी बरती जा रही है। यहां चीनी नागरिकों के अलावा नेपाली व उन अन्य विदेशी नागरिकों की भी स्क्रीनिंग की जा रही है, जो पर्यटक के रूप में नेपाल जा रहे हैं अथवा वहां से लौट रहे हैं। महराजगंज के अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. आइए अंसारी ने बताया कि स्क्रीनिंग के दौरान किसी भी नागरिक में अभी तक कोरोना पाजिटिव नहीं पाए गए हैं।

10158 कुल विदेशी नागरिकों की सोनौली सीमा पर स्क्रीनिंग की गई

7118 लोगों की स्क्रीनिंग ठूठीबारी सीमा पर हुई

2903 आगंतुकों की स्क्रीङ्क्षनग सोनौली सीमा पर हुई

 137 चीनी नागरिकों की अब तक की गई स्क्रीनिंग

चीन से लौटे मेडिकल छात्र का लिया गया ब्लड सैंपल

हाल ही में चीन से बस्ती लौटे मेडिकल छात्र का स्वास्थ्य विभाग ने ब्लड सैंपल लिया। जांच के लिए बस्‍ती के किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय (केजीएमयू) लखनऊ भेजा है। छात्र पुरानी बस्ती के मरवटिया गांव का निवासी है। सैंपल लेने डिप्टी सीएमओ डा. सीएल कन्नौजिया के साथ टीम छात्र के घर पहुंची थी।

Edited By: Pradeep Srivastava