गोंडा, (जेएनएन)। भारत सरकार के रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने साफ कहा कि भारतीय रेल देश के विकास का इंजन है। पिछले चार सालों में प्रगति के नए मापदंड स्थापित किए हैं। प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में कैबिनेट कमेटी ने भारतीय रेल पर सभी बड़ी रेल लाइनों के विद्युतीकरण को मंजूरी प्रदान की है। अभी हाल ही में 4940 करोड़ की लागत से 240 किलोमीटर लंबी बहराइच-भिनगा-श्रावस्ती से होते हुए उतरौला-डुमरियागंज के रास्ते खलीलाबाद के बीच नई रेल लाइन को स्वीकृति प्रदान की है। इसके अलावा गोंडा समेत उसके आसपास के तीन संसदीय क्षेत्रों में रेलवे 517 करोड़ रुपये की लागत से विकास कार्य कराया जा रहा है। 

मंत्री शुक्रवार को गोंडा जंक्शन पर बहराइच रेल प्रखंड पर अामान परिवर्तन के बाद रेल सेवा के शुभारंभ के मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यूपी में रेलवे के विकास के लिए वर्ष 2009-14 तक के औसत वार्षिक 1109 करोड़ के सापेक्ष वर्ष 2014 से अब तक वार्षिक 5278 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। यह 376 प्रतिशत अधिक है। यूपी में वर्ष 2014 से अब तक 409 किलोमीटर नई रेल लाइन का निर्माण, 293 किमी आमान परिवर्तन, 2156 किमी रेल लाइनों का विद्युतीकरण करने के साथ ही 29 सड़क उपरिगामी पुलों का निर्माण पूरा किया गया है। रेल राज्यमंत्री ने बहराइच के लिए नई रेल गाड़ी को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

अटल के नाम पर हो गोंडा जंक्शन

शुक्रवार को गोंडा जंक्शन पर आयोजित समारोह में कैसरगंज के भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृतियों को सहेजने के लिए गोंडा जंक्शन का नाम उनके नाम पर रखने की मांग की। सांसद ने कहा कि अटल जी को याद बनाए के लिए यह सबसे बेहतर माध्यम है। सांसद ने आम लोगों से मंच से इस बारे में सीधा सवाल करने के साथ ही जनप्रतिनिधियों से भी हामी भरवाई। केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि जहां तक नाम बदलने का मुद्दा है, यह राज्य सरकार का काम है।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस