गोंडा: बाढ़ का कहर कम नहीं हो रहा है। बुधवार को तरबगंज के भिखारीपुर सकरौर तटबंध पर तीसरी जगह कटान शुरू हो गई है, जिससे सुरक्षा दीवार नदी में समा गई है। वैसे एल्गिन ब्रिज पर घाघरा नदी खतरे के निशान से 75 सेंटीमीटर व अयोध्या में सरयू नदी 77 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है।

बाढ़ के कहर के बीच बारिश होने के कारण क्षेत्र की सड़कें कटान की भेंट चढ़ती जा रही हैं, जिससे 34 मजरों में रह रहे 780 परिवारों का जन जीवन पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। सड़कें कटने के कारण आवागमन की समस्या उत्पन्न हो गई है। फसलें जलमग्न हो गई हैं। भिखारीपुर-सकरौर तटबंध पर खतरा टलने का नाम नहीं ले रहा है। विशुन पुरवा से पूर्व दिशा में करीब 100 मीटर की दूरी पर तीसरे स्थान पर कटान शुरू हो गई। यहां सुरक्षा दीवार नदी में समा गई। बचाव कार्य जारी है। सहायक अभियंता बाढ़ कार्य खंड प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि कटान शुरू हुई थी, अब कोई समस्या नहीं है।

प्रशासन सतर्क

- डीएम डॉ. नितिन बंसल ने बताया कि तहसील तरबगंज के ऐली परसौली गांव के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के 56 लोगों को राशन किट व मवेशियों के लिए 35 क्विटल भूसे का वितरण एसडीएम तरबगंज द्वारा किया गया है। इसके अलावा मेडिकल टीम द्वारा ऐली परसौली में काउंटर लगाकर दवा का वितरण किया जा रहा है। 23 बाढ़ चाौकियों को सक्रिय करते हुए दो राहत वितरण केंद्र शुरू कर दिए गए हैं। आवागमन के लिए 193 नावों का उपयोग किया गया है। एक प्लाटून पीएसी की फ्लड बटालियन भी तहसील तरबगंज में तैनात है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस