जागरण संवाददाता, गहमर (गाजीपुर) : दानापुर रेल मंडल के गहमर रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों के ठहराव की मांग को लेकर ग्रामीणों का आंदोलन रंग लाया और रविवार की देर रात रेल प्रशासन ने उनकी मांगों को मान लिया। जिलाधिकारी मंगला प्रसाद के आदेश पर एडीएम सुशील लाल श्रीवास्तव देर रात को आंदोलनकारियों से बातचीत करने पहुंचे। जानकारी दी कि पंजाब मेल, विभूति एक्सप्रेस, मगध एक्सप्रेस के ठहराव की स्वीकृति दानापुर रेलवे डिवीजन से मिल गई है। इन तीन ट्रेनों का ठहराव इसी सप्ताह से होने लगेगा। इसके बाद जयघोष के साथ भूतपूर्व सैनिक के अध्यक्ष सुबेदार मेजर मारकंडेय सिंह, रेल सेवा समिति के अध्यक्ष हृदयनारायण सिह ने संयुक्त रूप से धरना समाप्त करने की घोषणा की। इस दौरान पूरा स्टेशन परिसर छावनी में तब्दील रहा। जमानियां सर्किल के सभी थानों की फोर्स तैनात रही।

पिछले 10 दिनों से चल रहे अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन ने रेलवे प्रशासन की नींद उड़ा दी थी। इसके पूर्व मंडल मुख्यालय के अधिकारियों की टीम पूर्व मंडल मुख्यालय दानापुर से मंडल वाणिज्य प्रबंधक प्रवीन सिन्हा, सहायक वाणिज्य प्रबंधक एकबालीक बैठा, आरपीएफ कमांडेंट सच्चिदानंद ओझा व जमानियां विधायक सुनीता सिंह ने आंदोलनकारियों से बातचीत कर आश्वासन दिया था। बताया था कि पंजाब मेल, विभूति एक्सप्रेस व मगध एक्सप्रेस का ठहराव एक सप्ताह में हो जाएगा। बाकी की मांगों पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने मंडल मुख्यालय की ओर से रेलवे बोर्ड को ट्रेन ठहराव के संबंध में भेजे गए पत्र को भी दिखाया था, लेकिन आंदोलनकारी अपनी सभी मांगों से कम पर मानने को तैयार नहीं थे। जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह ने पूरे मामले पर हस्तक्षेप करते हुए पूर्व रेल मंडल मुख्यालय दानापुर के उच्चाधिकारियों से बीतचीत की। एडीएम गाजीपुर को गहमर रेलवे के सर्कुलेटिग एरिया में बैठे आंदोलन कारियों के पास भेजकर बताया गया कि उपरोक्त तीन ट्रेनों का ठहराव गहमर रेलवे स्टेशन पर इस सप्ताह में किसी दिन भी किया जा सकता है। शेष तीन ट्रेन फरक्का एक्सप्रेस, गरीब रथ, कामाख्या-भगत की कोठी जो पूर्व में स्थानीय स्टेशन पर रुकती थी इसका भी ठहराव कराने का प्रयास किया जा रहा है। एसडीएम सेवराई रमेश मौर्य, तहसीलदार आलोक कुमार, पुलिस उपाधीक्षक हितेंद्र कृष्ण आदि रहे।

Edited By: Jagran