गाजियाबाद [शाहनवाज]। भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) ने खाद, रसायन व बिजली की महंगाई के बाद डीजल के दामों में वृद्धि के विराेध में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन कलेक्ट्रेट में तहसीलदार सदर को सौंपा। भाकियू ने 30 जून को सभी जिला मुख्यालयों पर हल्ला बोल का आह्वान किया था।

तेल में वृद्धि और पुलिस उत्‍पीड़न का मुद्दा उठा

भाकियू प्रवक्ता चौ. राकेश टिकैत किसानों को महंगी बिजली, खाद, रसायन के साथ ही डीजल पर हुई आशातीत वृद्धि के विरोध में सोमवार को प्रत्येक जिला मुख्यालयों पर हल्ला बोल का आह्वान किया था। इसी क्रम में भाकियू जिलाध्यक्ष बिजेंद्र सिंह के नेतृत्व में यूनियन के लोगों के साथ किसान कलेक्ट्रेट पहुंचे। विरोध प्रदर्शन के साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार सदर प्रवर्धन शर्मा को सौंपा, जिसमें तेल वृद्धि के साथ ही सरकार द्वारा खाद, रसायन व बिजली के बढ़े दाम एवं पुलिस उत्पीड़न का मुद्दा रखा।

किसान सम्मान निधि का लाभ 50 फीसद किसानों को नहीं मिल रहा

उन्होंने बिजली दरों में कमी करने, सामान्य योजना में स्वीकृत नलकूप कनेक्शन का सामान दिए जाने के लिए लक्ष्य निर्धारित किया जाए। किसान सम्मान निधि का लाभ 50 फीसदी किसानों को नहीं मिल रहा है। राज्य सरकार द्वारा भी इसमें अंशदान देते हुए 12 हजार वार्षिक किया जाए।

समर्थन मूल्‍य से नीचे खरीदने वालों के खिलाफ हो कार्रवाई

न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानून के दायरे में लाकर समर्थन मूल्य से नीचे खरीदने वालों के खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। किसानों के पिछले एक वर्ष तक के सभी तरह के कर्ज माफ किए जाए। इस मौके पर शमशेर राणा, जयकुमार मलिक, लक्ष्मीदत्त शर्मा, मौजी राम, दीन मोहम्मद व महेंद्र सिंह आदि शामिल रहे।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरें को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस