जागरण संवाददाता, फिरोजाबाद: शहर की पाश कालोनी विभव नगर निवासी ग्लास हैंडीक्राफ्ट कारोबारी व उनकी पत्नी के शव मिलने से शुक्रवार सुबह सनसनी फैल गई। महिला के चेहरे पर चोट के निशान थे। उनके कमरे में नींद की गोलियों की स्ट्रिप मिली, इसमें छह गोलियां नहीं थीं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट न होने से गुत्थी उलझी है। रात को आगरा से आइजी नचिकेता झा ने पहुंचकर घटना के संबंध में जानकारी ली।

68 वर्षीय अशोक गुप्ता अपनी 65 वर्षीय पत्नी रश्मि और पुत्र आकाश के साथ रहते थे। मकान के भूतल में हैंडीक्राफ्ट सामान का स्टोर है। इसके बगल में अशोक का बेडरूम था। आकाश ने बताया कि गुरुवार देर शाम माता-पिता में किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था। मां को समझाकर खाना खिला दिया था लेकिन, पापा केवल दूध पीकर अपने बेडरूम में चले गए। मम्मी-पापा नीचे के बेडरूम में सो रहे थे। मैं (आकाश) ऊपर के कमरे में सो गया।

शुक्रवार सुबह अखबार लेकर आए हाकर ने आवाज लगाई मगर, रोजाना की तरह अशोक गुप्ता की ओर से जवाब नहीं आया। इस पर आकाश ने नीचे आकर माता-पिता को आवाज लगाई। अंदर से बंद बेडरूम से किसी भी तरह की आहट न होने पर उसे अनहोनी की आशंका हुई। आकाश की सूचना पर महावीर नगर में रहने वाले कारोबारी के छोटे भाई पवन गुप्ता और स्वजन आ गए। बेडरूम का दरवाजा तोड़ा। बेड पर दोनों के शव पड़े थे। पुलिस को कमरे में नींद की गोलियों का पत्ता मिला। इसमें छह गोलियां गायब थीं। अशोक मधुमेह के रोगी थे, उनकी पत्नी को हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी थी। कमरे में दोनों की दवाइयां भी मिली हैं। रात को आगरा से पहुंचे आइजी नचिकेता झा ने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर घटना की जानकारी ली और गहनता से जांच के निर्देश दिए।

एसएसपी अशोक कुमार शुक्ला का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह सामने नहीं आई है। घटना की सूचना दर्ज की है। सभी पहलुओं की जांच की जा रही है। दंपती की मौत पर तरह-तरह की चर्चाएं

पत्नी की हत्या के बाद कारोबारी द्वारा आत्महत्या की आशंका भी सामने आई है। वहीं दोनों की एक साथ खुदकुशी की आशंका से भी इन्कार नहीं किया जा सकता है। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हुआ है। पुलिस पति-पत्नी के बीच संबंधों से लेकर कारोबार की स्थिति और परिवार की कलह समेत हर पहलू पर जांच की बात कह रही है।

Edited By: Jagran