जागरण संवाददाता, फीरोजाबाद: बीती मंगलवार रात चूड़ी के गोदाम के ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर निर्दोष युवक की हत्या का जिम्मेवार और बड़ी छपैटी कांड का मुख्य आरोपित सातवें दिन पुलिस के हत्थे चढ़ गया। इसके कब्जे से तमंचा भी बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने आरोपित से घटना में शामिल अन्य युवकों के बारे में जानकारी ली। वहीं एक नामजद जुबैर अब भी फरार है।

27 अक्टूबर की देर शाम सात बजे कामिनी बैंगल के गोदाम में कटाई का काम करने वाले सनी उर्फ रिजवान निवासी मशरूरगंज और ई-रिक्शा चालक श्रीकृष्ण निवासी बरगदपुर के बीच विवाद हुआ था। श्रीकृष्ण के साथियों द्वारा मारपीट के बाद सनी ने अपने साथियों को बुलाकर ताबड़तोड़ फायरिग की थी। इसमें अमित गुप्ता को गोली लग गई और मौत हो गई थी। घटना के दूसरे दिन पुलिस ने मोहसिन कालिया, दानिश, कामरान और चीनिया को गिरफ्तार कर जेल भेजा था, जबकि मुख्य आरोपित सनी उर्फ रिजवान व जुबैर फरार थे। पुलिस ने सनी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

-भाग गया था दिल्ली, सरेंडर की थी तैयारी

रिजवान ने बताया कि घटना के तुरंत बाद सभी लोग भाग गए थे। वह रात में ही शहर से भाग गया और दिल्ली पहुंचा। दिल्ली में रिश्तेदारों के यहां रुका था और मामला ठंडा होने पर वह सरेंडर करने आया था।

सनी और दानिश ने बरसाई थी गोलियां

पूछताछ में सनी ने बताया कि ई-रिक्शा वाले और उसके साथियों ने उसे पीटा था। इसके बाद उनसे दानिश को फोन करके साथियों के साथ आने को कहा। थोड़ी देर बाद दानिश साथियों के साथ पहुंच गया। उसने और दानिश ने गोलियां चलाईं थीं। सीओ सिटी हरिमोहन सिंह ने बताया कि सनी के बयानों से उसके साथियों का नाम पता चला है। विवेचना जारी है।

Edited By: Jagran