Move to Jagran APP

यूपी की इस हाई प्रोफाइल लोकसभा सीट पर बसपा समेत 13 प्रत्याशियों की जमानत जब्त, BJP को भी करना पड़ा हार सामना

संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी ने अपने प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। इसके अलावा यहां पर निर्दल व छोटे दलों से 12 प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे थे। मतगणना का अंतिम परिणाम आने के बाद सपा ने भगवा किला ढहाकर सफलता प्राप्त की। इस चुनाव में 13 प्रत्याशियों को नोटा से भी कम वोट मिले हैं।

By Ravindra pratap singh Edited By: Abhishek Pandey Thu, 06 Jun 2024 10:40 AM (IST)
12 लड़ाकों को नोटा ने पछाड़ा, बसपा समेत 13 की जमानत जब्त

जागरण संवाददाता, फतेहपुर। संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी ने अपने प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। इसके अलावा यहां पर निर्दल व छोटे दलों से 12 प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे थे। मतगणना का अंतिम परिणाम आने के बाद सपा ने भगवा किला ढहाकर सफलता प्राप्त की।

बड़ी बात यह हुई कि लोकसभा चुनाव जीतकर देश की सबसे बड़ी पंचायत का प्रतिनिधि बनने का सपना संजोए 12 लड़ाकों को नोटा से भी कम मत हासिल हुए। वहीं बसपा प्रत्याशी डा. मनीष सिंह सचान अपनी जमानत भी नहीं बचा सके। उन्हें महज 90656 मत हासिल हुए। मतगणना के रुझानों को देखकर वह बीच में ही मतगणना स्थल से चले आए।

जमानत राशि बचाने के लिए पड़े वोट का छठवां हिस्सा पाना अनिवार्य होता है। ऐसे में विजयी प्रत्याशी समाजवादी पार्टी के नरेश उत्तम पटेल व रनर भाजपा प्रत्याशी साध्वी निरंजन ज्योति के अलावा सभी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई। संसदीय क्षेत्र से 15 प्रत्याशी मैदान में थे।

संसदीय क्षेत्र के 8075 मतदाताओं ने नोटा (नन आफ एबब) पर आस्था जताई। 12 प्रत्याशी ऐसे रहे जिनको नोटा से भी कम मत मिले। इनमें निर्दल प्रत्याशी बीरेंद्र सिंह, परिवर्तन समाज पार्टी के कमलेश कुमार सिंह, निर्दल पंकज अवस्थी, राष्ट्रीय उदय पार्टी के रामकिशोर, निर्दल जीतेंद्र कुमार मौर्य, निर्दल कुलदीप कुशवाहा, पीपुल्स पार्टी आफ इंडिया के राजबहादुर, अखिल भारतीय परिवार पार्टी से नीरज कुमार, भारतीय शक्ति चेतना पार्टी रामबिहारी, विकास इंसाज पार्टी से नीरज लोधी, विश्व कल्याण राष्ट्रीय मानव समाज पार्टी से जयचंद्र कुमार, सरदार पटेल सिद्धांत पार्टी से राजेश कुमार पटेल शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: आजमगढ़ से क्यों हारे निरहुआ? सपा के धर्मेंद्र यादव से हार के बाद सामने आई यह वजह