अयोध्या, [दुर्गा प्रसाद श्रीवास्तव]। रामनगरी पहुंचे इंडिया क्रिकेट टीम के पूर्व सदस्य ज्ञानेंद्र पांडेय ने कहा कि भारतीय क्रिकेट का भविष्य उज्ज्वल है। छोटी-छोटी जगहों से अच्छे क्रिकेटर निकल रहे हैं जो इस बात का संकेत दे रहे हैं कि आने वाला कल भी सुनहरा इतिहास लिखता रहेगा।

‘जागरण’ से की खास मुलाकात : इंडिया क्रिकेट टीम के पूर्व सदस्य ज्ञानेंद्र पांडेय डा. भीमराव अंबेडकर राज्य विद्यालय क्रीड़ा संस्थान मकबरा स्टेडियम में प्रदेश स्तरीय स्कूली क्रिकेट प्रतियोगिता के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि आए थे। ‘जागरण’ से संक्षिप्त सी मुलाकात में उन्होंने यह बात कही।

हार और जीत खेल के दो पहलू हैं : विश्व चैंपियनशिप में इंडिया टीम के सेमीफाइनल में हार के कारण पूछे जाने पर उन्होंन कहा कि हार और जीत खेल के दो पहलू हैं। एक हार से किसी टीम को कमजोर नहीं आंका जा सकता है। वह दिन इंग्लैंड का था। जिस अंदाज में इंग्लैंड की टीम खेल रही थी, इंडिया ही क्या विश्व की कोई भी टीम सामने होती तो वह भी हार जाती। उनके खेलने के अंदाज ने ही उन्हें चैंपियन बनाया।

आईपीएल अपनी जगह है और टेस्ट अपनी जगह : आईपीएल से टेस्ट मैचों पर क्या असर पड़ रहा है, पूछे जाने पर उनका मानना है कि आईपीएल अपनी जगह है और टेस्ट अपनी जगह। टेस्ट टीम का चयन आज भी रणजी को ध्यान में रख कर किया जाता है। आईपीएल टी-20 टीम के लिए अच्छा प्लेटफार्म है। टी-20 की टीम पर गौर किया जाए तो पता चल रहा है कि कई खिलाड़ी आइपीएल की ही देन हैं।

Edited By: Vrinda Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट