जागरण संवाददाता, चित्रकूट : बगदरा घाटी में सेवानिवृत्त वन अधिकारी समेत तीन के अपहरण के बाद उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश राज्यों के दस्यु प्रभावित रेलवे स्टेशनों पर भी बुधवार को अलर्ट घोषित किया गया। यहां जीआरपी, आरपीएफ के साथ स्थानीय पुलिस टीमें सक्रिय दिखीं। इसके साथ लवलेश कोल की तलाश में यूपी-एमपी पुलिस ने दोहरा घेरा तैयार किया है। सती अनुसुइया, अमरावती, बगदरा घाटी के जंगलों समेत कई जगह कां¨बग की गई।

गैंग के मुख्य सरगना साढ़े पांच लाख रुपये के इनामी अंतरराज्यीय डकैत बबुली कोल के दाहिने हाथ द्वारा अंजाम दी गई वारदात भले मध्यप्रदेश के सतना जिले में हुई हो लेकिन यूपी पुलिस भी इसे चुनौती की तौर पर ले रही है। आइजी रीवां उमेश जोगा ने खुद पूरे आपरेशन की कमान संभाल रखी है। उन्होंने पुलिस अधीक्षक सतना संतोष ¨सह व कई थानों की फोर्स के साथ सती अनुसुइया, थर पहाड़ समेत आसपास जंगलों में सर्चिंग अभियान चलाया। इसके साथ डकैतों के यूपी की तरफ आने की आशंका को लेकर पुलिस अधीक्षक चित्रकूट मनोज कुमार झा, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चौधरी ने बहिलापुरवा, मारकुंडी, मानिकपुर समेत पाठा के जंगलों में कां¨बग शुरू करा दी है।

ये हैं दस्यु प्रभावित स्टेशन

उधर, दस्यु प्रभावित रेलवे स्टेशनों मानिकपुर, बांसा पहाड़, पनहाई, डभौरा, बरगढ़, जैतवारा, मझगवां, बहिलपुरवा, कटइया डांडी, मझियारी में भी अलर्ट घोषित कर सुरक्षा बढ़ाई गई है। एसपी सतना ने बताया कि अपहृतों का सकुशल छुड़ाना पहली प्राथमिकता है। इसके लिए डकैतों पर दबाव बनाने के लिए दोनों प्रदेशों की फोर्स को लगाया गया है। अपहरण के बाद पत्नी से मिला लवलेश

पुलिस सूत्रों के मुताबिक वन अधिकारी समेत तीन के अपहरण के बाद रात में डकैत लवलेश कोल मझगवां थानांतर्गत ¨पडरा में रहने वाली अपनी पत्नी से मिला था। इस सूचना के बाद पुलिस ने उस पर दबाव बनाने को सक्रियता बढ़ा दी है। पत्नी से कुछ अहम सुराग मिलने की संभावनाएं हैं।

Edited By: Jagran