जागरण संवाददाता, पीडीडीयू नगर (चंदौली) : रेलवे ट्रैक पर काम करने के दौरान भयभीत रहने वाले ट्रैक मेंटेनरों की समस्या का समाधान हो गया है। गंजख्वाजा-धनेछा रेलखंड पर ट्रेन वार्निंग सिस्टम लग गया है। रक्षक हैंड हेल्ड डिवाइस ट्रैक पर आ रही ट्रेनों के बारे में ध्वनि व वाइब्रेशन के माध्यम से ट्रैक मेंटेनरों को पहले ही अलर्ट कर देगी। इस सिस्टम में ट्रैक पर कार्य के दौरान मेंटेनरों को खुद को सुरक्षित करने का भरपूर समय मिल जाएगा। डिवाइस गंजख्वाजा-चंदौली मझवार, चंदौली मझवार-सैयदराजा, सैयदराजा-कर्मनाशा, कर्मनाशा-धनेछा रेलखंड पर काम करेगा।

ट्रैक मेंटेनर जमीनी स्तर पर कार्य करते हुए रेलवे ट्रैक की नियमित निगरानी और मरम्मत कार्य करते हैं। ऐसे में बराबर भय बना रहता है कि कहीं ट्रेन दुर्घटना न हो जाए। इसी के लिए मंडल के गंजख्वाजा-धनेच्छा रेलखंड पर एडवांस ट्रेन वार्निंग सिस्टम लगाया गया है। सिस्टम के तहत ट्रैक मेंटेनरों को दी जाने वाली वाकी टॉकी जैसी रक्षक हैंड हेल्ड डिवाइस उन्हें ट्रैक पर कार्य के दौरान आ रही ट्रेन व उसकी दिशा के बारे में एलईडी संकेत, बजर (ध्वनि) व वाइब्रेशन के माध्यम से पहले ही अलर्ट कर देगी। इससे ट्रैक मेंटेनेंस या पेट्रोलिग में लगे कर्मचारियों को समय पर उक्त ट्रैक से दूर हटकर सुरक्षित स्थान पर जाने में काफी मदद मिलेगी। मंडल रेल प्रबंधक राजेश कुमार पांडेय ने बताया कि कर्मियों की सुरक्षा के लिए यह बेहतर कदम है। मंडल के सभी रेलखंडों पर इस सिस्टम को शुरू करवाया जाएगा।