बिजनौर, जेएनएन। मंगलवार दोपहर सीजेएम कोर्ट में घुसकर तिहाड़ जेल से पेशी पर आए एक हत्यारोपित की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई। दूसरा हत्यारोपित भाग निकला। पुलिस ने फायरिंग करने वाले तीनों आरोपितों को कोर्ट में बंद कर दिया और बाहर भारी पुलिसबल तैनात कर दिया। गोली लगने से हेड मोहर्रिर व दिल्‍ली पुलिस का एक सिपाही भी घायल हो गया। ।

प‍िता की हत्‍या का ल‍िया बदला

इसी साल जून में नजीबाबाद में बसपा नेता अहसान व उनके भांजे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में नजीबाबाद के ही शहनवाज व जब्बार के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। इन पर पचास-पचास हजार का इनाम भी घोषित हुआ था। कुछ माह पूर्व दोनों ने दिल्ली में सरेंडर कर दिया था। दिल्ली पुलिस आज दोनों को पेशी पर लेकर सीजेएम कोर्ट बिजनौर आई थी। दोपहर को दोनों सीजेएम कोर्ट में थे। बताया जाता है कि उस समय जज मौजूद थे।

इन्‍‍‍‍‍‍‍होंने बतायाा 

एसपी संजीव त्यागी ने बताया कि इसी बीच अहसान का बेटा साहिल अपने दो साथियों के साथ कोर्ट में पहुंचा और शहनवाज व जब्बार को निशाना बनाते हुए फायरिंग शुरू कर दी। शहनवाज को कई गोलियां लगीं और उसकी मौत हो गई। जब्बार वहां नहीं मिला। अनुमान लगाया जा रहा कि वह भाग निकला। हेड मोहर्रिर मनीश भी गोली लगने से घायल हो गया। अफरा-तफरी के बीच पुलिस ने साहिल सहित तीनों को कोर्ट रूम में बंद कर दिया और चारों तरफ से कोर्ट को घेर लिया। घायल हेड मोहर्रिर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस जब्बार की तलाश में जुटी है। पुलि‍स ने शहनवाज के शव को पाेेस्‍टमार्टम केे लिए मर्चरी भेजा। कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस तीनों हत्‍योरोपितों को थाने ले गई।       

Edited By: Taruna Tayal