Move to Jagran APP

बस्ती में ढूंढे नहीं मिल रहे 163 शस्त्र धारक, शस्त्रों के हिसाब में झोल की आशंका, पोल खुलने का सता रहा डर

अब तक 98 ऐसे लाइसेंस निरस्त किए गए हैं जिनके बारे में संबंधित थानों से विवाद से संबंधित रिपोर्ट दी गई थी या फिर जिन्होंने लाइसेंस लेने के तीन माह के भीतर शस्त्र नहीं खरीदे थे। 251 ऐसे लोगों को छूट प्रदान की गई है जिनके लिए सुरक्षा बेहद जरूरी है। छह हजार 947 शस्त्र अब तक जमा कराए जा चुके हैं।

By Jagran News Edited By: Vivek Shukla Published: Wed, 24 Apr 2024 03:23 PM (IST)Updated: Wed, 24 Apr 2024 03:23 PM (IST)
दो दिन के अंदर डीएम के सामने प्रस्तुत करनी है रिपोर्ट

 ब्रजेश पांडेय, जागरण बस्ती। जिले में 163 शस्त्र ऐसे हैं, जिनके लाइसेंस धारकों का पता पुलिस अब तक नहीं लगा सकी है। जिला निर्वाचन अधिकारी अन्द्रा वामसी एक-एक शस्त्र धारकों के बारे में पूरी छानबीन करा रहे हैं। इसे लेकर पुलिस विभाग की परेशानी बढ़ गई है।

शस्त्रों के हिसाब में कहीं झोल हैं तो कहीं पोल खुलने का भी डर भी सता रहा है। फिलहाल डीएम ने दो दिन के अंदर पूरा लेखा-जोखा प्रस्तुत करने के लिए स्क्रीनिंग कमेटी को निर्देशित किया है। जिला प्रशासन की सूची में सात हजार 911 लाइसेंस पंजीकृत हैं।

इसे भी पढ़ें- प्रयागराज में छाया बंदरों का ऐसा खौफ, लोग घरों में हो गए हैं कैद, इन्‍हें पकड़ने के लिए पांच लाख रुपये का पास है बजट लेकिन...

शस्त्रों के लिए स्कीनिंग कमेटी बनाई गई है। जिसमें अपर जिलाधिकारी कमलेश चंद्र और सदर सीओ विनय चौहान को शस्त्रों के संबंध में पूरी रिपोर्ट सामने लाने की जिम्मेदारी दी गई है।

दो दिन पूर्व कमेटी की समीक्षा बैठक में यह बात सामने आई थी कि 163 शस्त्रों व उनके स्वामी का पता नहीं चल पा रहा है। जबकि एक महीने से पुलिस इसपर कसरत कर रही है।

इसे भी पढ़ें- एकतरफा मोहब्‍बत में युवक बना कातिल, सगाई के दिन युवती को चाकू से गोदकर उतारा मौत के घाट

निरस्त हो चुके हैं 98 लाइसेंस, 251 लोगों को दी गई छूट

अब तक 98 ऐसे लाइसेंस निरस्त किए गए हैं, जिनके बारे में संबंधित थानों से विवाद से संबंधित रिपोर्ट दी गई थी या फिर जिन्होंने लाइसेंस लेने के तीन माह के भीतर शस्त्र नहीं खरीदे थे। 251 ऐसे लोगों को छूट प्रदान की गई है, जिनके लिए सुरक्षा बेहद जरूरी है। छह हजार 947 शस्त्र अब तक जमा कराए जा चुके हैं।

10 लोगों ने शस्त्र अब तक क्रय नहीं किया है। सात लोगों के शस्त्र जमा कराना शेष रह गया है। मृतकों की संख्या 431 है। 82 शस्त्र सेना के जवानों के पास हैं। माना जा रहा है कि करीब सौ असलहे ऐसे होंगे, जिनके लाइसेंस धारकों की मृत्यु हो चुकी होगी और उनके वारिस अबतक सामने नहीं आए होंगे।

बस्ती जिलाधिकारी अन्द्रा वामसी ने कहा कि लोक सभा चुनाव में पूरी तरह से शांति व्यवस्था बनाई जाएगी। शस्त्रों का दुरुपयोग नहीं होने दिया जाएगा। स्क्रीनिंग कमेटी के सामने अभी तक 163 शस्त्रों के बारे में रिपोर्ट नहीं प्रस्तुत की गई है। इसके लिए कमेटी को दो दिन का समय दिया गया है। जिन शस्त्रों का वरासत नहीं हो पाया है, उन्हें निरस्त किया जाएगा।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.