बरेली, जेएनएन। Teenager Tied with Chain found in UP Roadways Bus : शाहजहांपुर से हरदोई जा रही रोडवेज बस से सोमवार की शाम एक किशोरी को रामचंद्र मिशन थाने में उतारा गया। उसके पैर में जंजीर बंधी हुई है। वह अपना नाम व पता ही बता रही है। चाइल्ड लाइन टीम ने भी पूछताछ की, लेकिन इससे ज्यादा कुछ नहीं बताया। वह मानसिक तनाव के साथ ही काफी सहमी हुई है, इसलिए उसकी स्थिति सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है।

शाम करीब छह बजे एक किशोरी रोजा थाना क्षेत्र के सुभाष चौराहे के पास रोडवेज बस में सवार हुई थी। कंडक्टर देवेंद्र प्रताप सिंह ने उससे टिकट बनवाने के लिए कहा तो वह उनसे झगड़ पड़ी। समझाने की कोशिश की, पर शांत नहीं हुई। इस बीच कंडक्टर की नजर उसके दायें पैर में बंधी लोेहे की जंजीर पर पड़ी तो उन्होंने रामचंद्र मिशन थाने के पास बस रुकवा ली। उन्होंने वहां मौजूद एसएसआइ विनोद कुमार को पूरी बात बताई, लेेकिन किशोरी बस से उतरने को तैयार नहीं हुई। एसएसआइ ने भी बस ले जाने के लिए कह दिया, पर कंडक्टर ने इन्कार कर दिया।

इसके बाद किशोरी को नीचे उतारा गया। काफी देर बाद उसने अपना नाम प्रिया, पिता का नाम नरेश निवासी रामपुर रोड गत्ता फैक्ट्री हल्द्धानी बताया। मोबाइल नंबर पूछा तो जवाब नहीं दिया। यहां कैसे आई, उसको कौन लाया, पैर में जंजीर किसने बांधी इन सब सवालों पर चुप्पी साधे रही। काफी देर बाद भी जब कोई जवाब नहीं मिला तो चाइल्ड लाइन को सूचना दी गई। रात में महिला पुलिस उसे राजकीय मेडिकल कालेज लेकर पहुंची जहां चालल्ड लाइन टीम ने जानकारी लेने की कोशिश की, लेकिन उसने किसी बात का कोई जवाब नहीं दिया।

प्रभारी निरीक्षक राजितराम ने बताया कि किशोरी को चाइल्ड लाइन टीम के सुपुर्द कर दिया गया है। अब आगे की कार्रवाई वहीं से होगी। उसने अब तक अपना और पिता का नाम व पता बताया है। वह मानसिक तनाव में लग रही है।चाइल्ड लाइन प्रभारी विनय कुमार ने बताया कि किशोरी की जंजीर खोल दी गई है। उसका मेडिकल कराया जा रहा है। उसको वन स्टाप सेंटर में रखा जाएगा। मंगलवार को काउंसिलिंग कराएंगे। हो सकता है तब वह कुछ जानकारी दे। अभी वह सहमी हुई है।

Edited By: Samanvay Pandey